पीड़ित महिला का प्रियंका गांधी से लिपटकर रोना क्या दर्शाता है ?

देवेंद्र यादव

0 164
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए प्रदेश के कानपुर में यूं तो सभी प्रमुख पार्टियों के नेताओं ने जनसभा और रोड शो किए हैं, मगर कांग्रेस की राष्ट्रीय महामंत्री और उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी से पीड़ित महिला लिपटकर रो-रो कर अपनी पीड़ा को क्यों बता रही थी और प्रियंका गांधी से न्याय दिलाने की मांग क्यों कर रही थी? यह एक बड़ा सवाल है। क्या अन्य पार्टियों और उनके नेताओं पर पीड़ित महिला को भरोसा नहीं था?  पीड़ित महिला उम्मीद प्रियंका गांधी से अधिक थी क्योंकि वे पीड़ित महिला को न्याय दिला सकती हैं ? यदि इस घटना को उत्तर प्रदेश चुनाव से जोड़कर देखें तो उत्तर प्रदेश की महिलाओं के बीच प्रियंका गांधी की साख बढ़ी है।  महिलाओं को शायद उत्तर प्रदेश चुनाव में दिखाई दे रहे अन्य नेताओं पर ज्यादा प्रियंका गांधी के प्रति भरोसा अधिक है?

राजनीतिक पंडितों और विश्लेषकों को भले ही उत्तर प्रदेश की महिलाओं का कांग्रेस और प्रियंका गांधी के प्रति चुनाव में आकर्षण दिखाई न दे रहा हो, मगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उत्तर प्रदेश की महिलाओं के प्रति आकर्षण बताता है कि भाजपा में कांग्रेस और प्रियंका गांधी के विजन को लेकर उत्तर प्रदेश में कितनी परेशान है?

प्रियंका गांधी पर भरोसा उत्तर प्रदेश की महिलाओं को शायद इसलिए भी है क्योंकि हाथरस और लखीमपुर खीरी की घटनाओं के बाद न्याय को लेकर जिस तरह से उन्होंने आवाज बुलंद की थी उसका असर कानपुर के रोड शो में दिखाई पड़ा  जब एक पीड़ित महिला प्रियंका गांधी से लिपट कर रो-रो कर न्याय की मांग करने लगी !
सवाल उठता है कि क्या उत्तर प्रदेश चुनाव में महिलाओं के अंदर कांग्रेस को लेकर कहीं अंडर करंट तो नहीं चल रहा है?
कानपुर और सीतापुर की चुनावी सभाओं में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपने भाषण में महिलाओं के सशक्तिकरण और महिलाओं के लिए बनाई गई केंद्र सरकार की योजनाओं पर अधिक फोकस किया था। राजनीतिक पंडितों और विश्लेषकों को भले ही उत्तर प्रदेश की महिलाओं का कांग्रेस और प्रियंका गांधी के प्रति चुनाव में आकर्षण दिखाई न दे रहा हो, मगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उत्तर प्रदेश की महिलाओं के प्रति आकर्षण बताता है कि भाजपा में कांग्रेस और प्रियंका गांधी के विजन को लेकर उत्तर प्रदेश में कितनी परेशान है?
इसकी बानगी पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के भैया वाले बयान में भी देखी गई क्योंकि चन्नी जब बयान दे रहे थे तब उत्तर प्रदेश प्रभारी श्रीमती प्रियंका गांधी चन्नी के साथ मौजूद थीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मुद्दे को लपक कर कांग्रेस को घेरा।
भले ही उत्तर प्रदेश में प्रियंका गांधी के प्रति महिलाओं का आकर्षण 2022 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को सत्ता तक न पहुंचाए मगर इस आकर्षण ने कांग्रेस के लिए 2024 के लोकसभा चुनाव की एक मजबूत नींव रख दी है।
देवेंद्र यादव कोटा (राजस्थान) स्थित वरिष्ठ पत्रकार हैं।
Leave A Reply

Your email address will not be published.