Saturday, July 13, 2024
होमराजनीतिसर्व सेवा संघ खाली कराये जाने के विरोध में प्रतिरोध सभा की...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

सर्व सेवा संघ खाली कराये जाने के विरोध में प्रतिरोध सभा की गई

वाराणसी। राजघाट स्थित सर्व सेवा संघ परिसर को पुलिस बल प्रयोग कर प्रशासन और रेलवे द्वारा खाली कराए जाने के विरोध में गांधी जनों और वाराणसी के राजनीतिक और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने प्रतिरोध सभा एवं मार्च निकालकर शास्त्री घाट पर सभा का आयोजन किया है। इस सभा में वक्ताओं ने प्रशासन की कार्यवाही को सरासर […]

वाराणसी। राजघाट स्थित सर्व सेवा संघ परिसर को पुलिस बल प्रयोग कर प्रशासन और रेलवे द्वारा खाली कराए जाने के विरोध में गांधी जनों और वाराणसी के राजनीतिक और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने प्रतिरोध सभा एवं मार्च निकालकर शास्त्री घाट पर सभा का आयोजन किया है।

इस सभा में वक्ताओं ने प्रशासन की कार्यवाही को सरासर अन्यायपूर्ण और कानून के विरुद्ध बताया है। गांधी निधि, नई दिल्ली के अध्यक्ष और वरिष्ठ गांधीवादी चिंतक रामचन्द्र राही ने कहा कि यह कार्यवाही न्यायालय की अवमानना है। उन्होंने कहा कि शांतिपूर्ण तरीके से अपना पक्ष रखने वाले सामाजिक कार्यकर्ताओं को शांति भंग की धारा में चालान कर जेल भेजना हास्यास्पद है। सरकार को उन्हें बिना शर्त रिहा करना चाहिए।

समाजवादी जन परिषद के अफलातून ने घटना का जिक्र करते हुए कहा कि ‘शनिवार को प्रातः 7 बजे रेलवे और जिला प्रशासन की तरफ से सेकड़ों की संख्या में पुलिस बल और सफाईकर्मी परिसर में बिना किसी आदेश या नोटिस के परिसर में आ गये और जबरन क्रूरतापूर्वक सभी आवासों से सामान और करोड़ो रुपये मूल्य की किताबें बाहर खुले में बारिश में भीगने के लिए फेंक दी गईं, जिनमें बहुत सी पुस्तकें दुर्लभतम हैं।’

पुलिस प्रशासन और रेलवे की इस संयुक्त कार्यवाही के दौरान किसी को भी बाहर से आने-जाने पर रोक लगा दी गयी थी, और परिसर की बिजली भी काट दी गयी थी। आवास में मीडिया का भी प्रवेश प्रतिबंधित था। प्रशासन का यह कृत्य अलोकतांत्रिक और अवैधानिक है। कांग्रेस नेता प्रजानाथ शर्मा ने कहा कि सरकार गांधी, विनोबा और जेपी के विचारों से डरती है और उनसे जुड़े स्मारकों और पुस्तकों को नष्ट करने पर आमादा है।

यह भी पढ़ें –

संकट में सर्व सेवा संघ, क्या गांधी के लोग बचा पायेंगे गांधी की जमीन

 

इस अवसर पर वक्ताओं ने घटना पर रोष व्यक्त करते हुए कहा कि हमें ऐसी घटनाओं पर प्रबल विरोध दर्ज कराना ही होगा इसलिए आगामी मंगलवार 25 जुलाई को बड़ी संख्या में शास्त्री घाट पर जुटकर प्रशासन को चेतावनी दी जायेगी। फादर आनंद, रंजू सिंह, जगन्नाथ कुशवाहा, वल्लभाचार्य पाण्डेय, गगन प्रकाश, मनीष, राधा बहन आदि ने भी विचार प्रस्तुत किये। साथ ही इस सभा की अध्यक्षता डॉ नीति भाई, संचालन धनंजय और धन्यवाद  ज्ञापन संजीव सिंह ने किया।

सभा के बाद उपस्थित लोगों ने प्रतिरोध मार्च निकाला और अम्बेडकर पार्क पहुंचे जहां राष्ट्रपति के नाम संबोधित ज्ञापन पढ़ कर सुनाया गया, जिसमें प्रमुखता से मांग की गयी कि मामले को संज्ञान लेते हुए राष्ट्रपति महोदया तत्काल हस्तक्षेप करें और राष्ट्रीय महत्व की इस संस्था को बर्बाद करने की सम्बन्धित विभागों की गतिविधि पर अंकुश लगायें। ज्ञापन प्राप्त करने के लिए जिले स्तर से किसी सक्षम अधिकारी के न आने के कारण ज्ञापन को पोस्ट द्वारा राष्ट्रपति भवन भेजा गया है।

यह भी पढ़ें –

सर्वोच्च न्यायालय से नहीं मिला स्टे, निचली अदालत में करेंगे अपील ,सर्वसेवा संघ में जारी रहेगा सत्याग्रह

इस कार्यक्रम में जागृति राही, अनूप श्रमिक, इंदू पाण्डेय, सुरेश राठौर, मनीष शर्मा, रवि शेखर, एकता सिंह, महेंद्र राठोर, अशोक भारत, डॉ आनंद प्रकाश तिवारी, प्रो विजय, अजय पाल, ओम प्रकाश अरुण, डॉ मोहम्मद आरिफ, रंजीत कुमार, संतोष कुमार, विनोद जायसवाल सहित सैकड़ों लोगों की भागीदारी रही।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें