Saturday, April 13, 2024
होमसामाजिक न्यायबहुजनजाति जनगणना का प्रश्न

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

जाति जनगणना का प्रश्न

जाति गणना का प्रश्न समाजिक सन्दर्भों के अध्ययन, और सामाजिक उन्नयन के लिए नीतियों के निर्धारण, दोनों के लिए बहुत जरूरी है। जो लोग जाति जनगणना के विरोध में झंडा बुलंद किए हैं, तर्क यह दे रहे कि इससे जातिवाद बढ़ेगा, यह मजाक के सिवा कुछ नहीं। गोया जातिवाद हो ही न? या आप जातिवाद […]

जाति गणना का प्रश्न समाजिक सन्दर्भों के अध्ययन, और सामाजिक उन्नयन के लिए नीतियों के निर्धारण, दोनों के लिए बहुत जरूरी है। जो लोग जाति जनगणना के विरोध में झंडा बुलंद किए हैं, तर्क यह दे रहे कि इससे जातिवाद बढ़ेगा, यह मजाक के सिवा कुछ नहीं। गोया जातिवाद हो ही न? या आप जातिवाद के विरोधी हैं? अगर हैं तो मांग कीजिए कि जातिवाद खत्म करने का विधान बने और जिन धर्मग्रंथों द्वारा इसे पाला पोसा गया है, उनको हटाया जाए। फिर तो जाति गणना की किसी मांग की जरूरत न पड़ेगी।

सुभाष चन्द्र कुशवाहा

आर्थिक रूप से देश की सम्पदा से कौन वंचित है और शिक्षा, रोजगार, भूमिहीन की स्थिति का पता भी जाति गणना बता सकती है। यह क्षेत्रवार असमानता को चिन्हित कर सकती है या जब आप कहते हैं कि अमुक ओबीसी जातियां मजबूत हो चुकी हैं, उनकी भी पहचान तो हो जानी चाहिए कि यह मजबूती कितनी है? कहीं कोई गणना से आफत नहीं आने वाली। हाँ, अगर आपने सदियों से वंचितों के साथ खेल किया है, तब आपकी बेचैनी समझ में आती है। वैसे गणना से मानसिक रूप से दास बनाई हुई जातियों की यातना का पता तब भी न चलेगा। जाति गणना से केवल इस समाज के वर्गीकरण का, असमानता के कुछ आंकड़ों का पता चलेगा। तभी समभाव और समानता का समाज बनाया जा सकता है। तो क्या आप समानता के विरोधी हैं? तो खुल कर कहिए कि हम असमानता चाहते हैं, हम अपनी सेवा में दासों को रखना चाहते हैं, उनकी नियति वैसी बनी रहे , उनकी दशा का पता न लगे, इसलिए हम जाति गणना के विरोधी हैं।
मगर हम, बिना किसी जातिगत मनोदशाओं को पाले, ओबीसी जाति गणना की भी मांग करते हैं। मण्डल आयोग की सभी सिफारिशों को लागू करने की मांग करते हैं। हम समानता की ओर बढ़ने के हिमायती हैं। हम मानते हैं कि देश की तरक्की, सामाजिक और आर्थिक उन्नयन तभी सम्भव है।

 

 सुभाष चन्द्र कुशवाहा इतिहासकार और कथाकार हैं।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें