Wednesday, May 22, 2024
होमराष्ट्रीयमृतक किसानों के कंकाल के साथ किसानों ने जंतर-मंतर पर किया प्रदर्शन,...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

मृतक किसानों के कंकाल के साथ किसानों ने जंतर-मंतर पर किया प्रदर्शन, मांगे पूरी न होने पर वाराणसी में पीएम मोदी के खिलाफ लड़ेंगे चुनाव

किसानों ने कहा कि पीएम ने किसानों की आय दोगुनी करने का वादा किया था, पीएम मोदी ने नदियों को जोड़ने और जल संकट से निजात दिलाने का वादा किया था लेकिन कोई वादा पूरा नहीं हुआ।

मृतक किसानों के कंकाल लेकर दिल्ली पहुंचे तमिलनाडु के किसानों ने आज केंद्र सरकार के खिलाफ जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन किया। कुछ किसानों ने पेड़ों एवं टॉवर पर चढ़कर अपना विरोध जताया। तमिलनाडु से लगभग 200 किसान राजधानी दिल्ली में पहुंचे हैं। इन किसानों ने केंद्र सरकार और पीएम मोदी पर किसानों से किए गए वादे पूरे न करने का आरोप लगाया है। ये सभी किसान उन किसानों की हड्डियों और खोपड़ियों को लेकर दिल्ली पहुंचे हैं, जिन किसानों ने बुरे हालातों के चलते पिछले दिनों आत्महत्या की है। 

किसानों ने अपने प्रदर्शन के दौरान पीएम मोदी द्वारा 2019 में किए गए वादों और घोषणाओं को याद दिलाया। किसानों ने कहा कि पीएम ने किसानों की आय दोगुनी करने का वादा किया था, पीएम मोदी ने नदियों को जोड़ने और जल संकट से निजात दिलाने का वादा किया था लेकिन कोई वादा पूरा नहीं हुआ। किसानों ने आरोप लगाया है कि पीएम ने किसानों की आय दोगुनी करने का वादा किया था लेकिन फसलों की कीमतें नहीं बढ़ाई गईं। 

किसानों का आरोप है कि पुलिस ने किसानों को जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करने की अनुमति भी नहीं दी। इसके बाद ये किसान न्यायालय से प्रदर्शन करने की अनुमति लेकर आए। किसानों ने कहा है कि यदि सरकार किसानों की मांग को पूरा नहीं करेगी तो किसान वाराणसी में पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे। 

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक नेशनल साउथ इंडियन रिवर इंटरलिंकिंग फार्मर्स एसोसिएशन तमिलनाडु के अध्यक्ष अय्याकन्नू ने कहा, ‘2019 के चुनावों के दौरान, पीएम ने घोषणा की थी कि वह फसलों का मुनाफा दोगुना करेंगे और नदियों को जोड़ देंगे। यदि सरकार हमारी बात नहीं सुनती है तो हम वाराणसी जाएंगे और पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे।’ किसान नेता ने जानकारी देते हुए बताया, ‘उन्होंने अपनी मांगों के लिए पहले भी विरोध प्रदर्शन किया है। हम पीएम के खिलाफ नहीं हैं या किसी राजनीतिक दल से हमारा कोई संबंध नहीं है। हम सिर्फ उनकी मदद चाहते हैं।’

तमिलनाडु के अलावा हरियाणा, पंजाब, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, बिहार एवं झारखंड के किसान भी एमएसपी की गारंटी एवं किसानों की कर्जमाफी जैसी मांगों को लेकर आंदोलनरत हैं। हरियाणा-पंजाब की सीमा पर स्थित शंभू बॉर्डर एवं खनौरी बॉर्डर पर किसान आपनी मांगों को लेकर पिछले 72 दिनों से बैठे हुए हैं।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें