Tuesday, April 16, 2024
होमसंस्कृतिहोली के पीछे की असली कहानी गुलामगीरी में कैसे कहते हैं ज्योतिबा...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

होली के पीछे की असली कहानी गुलामगीरी में कैसे कहते हैं ज्योतिबा फुले

नरसिंह, हिरण्यकश्यप, प्रह्लाद, विप्र, विरोचन आदि के सम्बंध में धोंडीराव : वराह के मरने के बाद द्विज लोगों का मुखिया कौन हुआ? जोतिराव : नरसिंह। धोंडीराव : नरसिंह स्वभाव से कैसा था? जोतिराव : नरसिंह, स्वभाव से लालची, धोखेबाज, विश्वासघात करने वाला, विनाशकारी, क्रूर और भ्रष्ट था। वह शरीर से बहुत मजबूत और बलवान था। […]

नरसिंह, हिरण्यकश्यप, प्रह्लाद, विप्र, विरोचन आदि के सम्बंध में

धोंडीराव : वराह के मरने के बाद द्विज लोगों का मुखिया कौन हुआ?

जोतिराव : नरसिंह।

धोंडीराव : नरसिंह स्वभाव से कैसा था?

जोतिराव : नरसिंह, स्वभाव से लालची, धोखेबाज, विश्वासघात करने वाला, विनाशकारी, क्रूर और भ्रष्ट था। वह शरीर से बहुत मजबूत और बलवान था।

धोंडीराव : उसने क्या-क्या किया था?

जोतिराव : सबसे पहले उसके मन में हिरण्यकश्यप की हत्या करने का विचार आया। उसने यह अच्छी तरह समझ लिया था कि उसकी हत्या किये बगैर उसका राज्य उसे नहीं मिलने वाला। उसका अपना दुष्ट उद्देश्य सफल हो, इसके लिए उसने गुप्त हरकतें करना शुरू कर दिया। उसने अपने एक द्विज शिक्षक के माध्यम से हिरण्यकश्यप के बेटे प्रह्लाद के अबोध मन पर अपने धर्म-सिद्धांत थोपना प्रारंभ किया। इसकी वजह से प्रह्लाद ने अपने हर-हर नाम के कुलस्वामी की पूजा करना त्याग दिया। बाद में हिरण्यकश्यप ने प्रह्लाद के भ्रष्ट हुए मन को पुनः अपने कुलस्वामी की पूजा करने के लिए अनुकूल करने की दृष्टि से हर तरह की कोशिश की लेकिन, नरसिंह की ओर से प्रह्लाद को भीतर से मदद होने के कारण हिरण्यकश्यप के सारे प्रयास बेकार गए। अंत में नरसिंह ने उस अबोध बालक को अपने बहकावे में लाकर उसका मन इस तरह से भ्रष्ट कर दिया कि वह अपने पिता की हत्या कर दे। लेकिन इस तरह का अमानवीय कृत्य करने के लिए उस लड़के की हिम्मत नहीं हुई। इसलिए नरसिंह ने मौका देख कर ताजिया से बाघ के बनावटी स्वाँग की तरह अपने सारे बदन को रंगवाया, मुँह में बड़े-बड़े नकली दाँत लगवाए और लंबे-लंबे बालों की दाढ़ी-मूँछे लगवाई और वह एक तरह से (नकली) भयंकर शेर बन गया।

यह सारा स्वाँग छुपाने के लिए नरसिंह ने जरी से बुनी हुई ऊँचे किस्म की साड़ी (पातल) पहन लिया और सती की तरह अपने मुँह पर लंबा-चौड़ा घूँघट डाल कर बड़े ही नखरैल ढंग से झूमते-लहराते हुए बच्चे की मदद से एक दिन उसके पिता द्वारा बनवाए विशाल मंदिर में जहाँ खंभों का ताँता लगा हुआ था, वहाँ जाकर चुपके से खड़ा हो गया। उसी दरम्यान हिरण्यकश्यप सारे दिन के शासन-भार से थका, अपने मंदिर में आ कर आराम करने के उद्देश्य से ज्यों ही पलंग पर लेटा, नरसिंह ने बड़ी तेजी के साथ सिर का घूँघट खोल कर, आँचल को कमर में लपेट कर, उन खंभों की ओट से निकल कर हिरण्यकश्यप पर कातिलाने ढंग से टूट पड़ा। उसने अपने हाथ की मुठ्ठी में छुपाए हुए बघनखा से उसके पेट को फाड़ दिया। इस तरह उसने हिरण्यकश्यप की हत्या कर दी। बाद में नरसिंह वहाँ से सभी द्विजों को लेकर रात और दिन एक कर अपने मुल्क में भाग गया।

यह भी पढ़ें…

एक धूसरित होता शहर बरहज

इधर, नरसिंह ने प्रह्लाद को तो भुलावे में रख दिया था लेकिन, जब क्षत्रियों को यह ध्यान में आया कि नरसिंह ने अमानवीय कर्म किया है, तब उन्होंने आर्य लोगों को द्विज कहना बिलकुल त्याग दिया और नरसिंह को विप्रिय कहने लगे। इसी विप्रिय शब्द से बाद में उसका नाम विप्र पड़ा होगा। बाद में क्षत्रियों ने नरसिंह यानी सिंह की औरत कह कर कोसना शुरू कर दिया। अंत में हिरण्यकश्यप के बच्चों में से कइयों ने नरसिंह को पकड़ कर उसको उचित दंड देने की कोशिश की, किंतु नरसिंह हिरण्यकश्यप की राजसत्ता हड़पने की इच्छा छोड़ कर केवल अपने मुल्क और अपनी जान को सँभालते हुए, किसी प्रकार का पुनः प्रयास न करते हुए मर गया।

धोंडीराव : फिर नरसिंह के इस तरह के अमानवीय कृत्यों की वजह से उसके नाम को लेकर बाद में कोई उसकी थू-थू न करे, इस डर से विप्र इतिहासकारों ने कुछ समय के बाद उचित समय को जान कर नरसिंह के बारे में यह सिद्ध करने की कोशिश की कि, वह तो खंभे से पैदा हुआ। इस तरह उसके नाम के साथ कई झूठ-मूठ की कल्पनाएँ गढ़ कर इतिहास में घुसेड़ दी गयी होंगी।

जोतिराव : हाँ, इसमें कोई संदेह नहीं क्योंकि, यदि वह खंभे से पैदा हुआ, यह कहा जाय, तब उसके गर्भ की नाल दूसरे किस व्यक्ति ने काटी होगी और उसके मुँह में दूध का स्तन दिये बगैर वह कैसे जिया होगा? बाद में वह किसी न किसी दाई या बाहर का दूध पिये बगैर छोटे से बड़ा कैसे हुआ होगा? यदि यह कहा जाय कि शायद यह हो भी सकता है। लेकिन, सृष्टि में इस तरह से कुछ भी घटते हुए नहीं दिखायी देता। यह तो सृष्टिक्रम के विरुद्ध ही है। इन लापरवाह विप्र ग्रंथकारों ने नरसिंह को एकदम लकड़ियों के खंभों से पैदा करवाते ही बगैर किसी की सहायता के अपने-आप ही इतना शक्तिशाली दाढ़ी मूँछवाला, अक्ल का दुश्मन बना दिया कि उसने तुरंत ही हिरण्यकश्यप की हत्या कर डाली। हाय, जो पिता अपनी समझ के अनुसार, पितृधर्म की भावना को अपने मन में जगाकर केवल शुद्ध ममता से अपने स्वयं के पुत्र का मन सच्चे धर्म में लगाने का प्रयास कर रहा था, उस पिता को आदिनारायण के अवतार द्वारा मार दिया जाना, क्या सच में उचित था? इस तरह का अमानवीय कुकर्म अज्ञानी मनुष्य का अवतार भी शायद ही करेगा। आदिनारायण का अवतार होने की वजह से उसे चाहिए था कि वह हिरण्यकश्यप को दर्शन देकर यह विश्वास दिलाता कि वह आदिनारायण का अवतार है। और कि वह पिता-पुत्र में सुलह करवाने आया है। लेकिन, ऐसा न कर वह हिरण्यकश्यप को उपदेश देकर उसको समझा नहीं पाया तो फिर, वह उस सबकी बुद्धि का दाता कैसे? इससे यह सिद्ध होता है कि नरसिंह में किसी सामान्य स्त्री से भी कम अक्ल थी।

यह भी पढ़ें…

बुनकरी के काम में महिलाओं को न्यूनतम मजदूरी भी नहीं मिल पाती

फिलहाल हिंदुस्थान में अमरिकी और यूरोपीय मिशनरियों ने यहाँ के कई युवकों को ख्रिस्ती (ईसाई) बना लिया किंतु, उनमें से किसी ने भी किसी (ख्रिस्ती) युवक के पिता की हत्या नहीं की, यह कितना बड़ा आश्चर्य है!

धोंडीराव : नरसिंह की इस तरह दुर्दशा होने पर विप्रो ने प्रह्लाद का राज्य लेने के लिए कुछ कोशिश भी की या नहीं?

जोतिराव : विप्रो ने प्रह्लाद का राज्य हड़पने के लिए कई तरह के लुके-छिपे प्रयास किये। किंतु, उन लोगों को इसमें कोई कामयाबी नहीं मिली। चूँकि, बाद में प्रह्लाद की आँखे खुल गयीं और उसको विप्रो की कुटिलता स्पष्ट रूप से दिखाई देने लगी। तब से प्रह्लाद ने विप्रो पर किसी भी तरह का भरोसा करना छोड़ दिया और सभी लोगों से केवल ऊपरी दिखावे का स्नेह रखकर अपने राज्य की उचित व्यवस्था, योग्य प्रबंध करके मर गया। उसके मरने के बाद उसी के बेटे विरोचन ने अपने राज्य को सँभालते हुए उस राज्य को बलशाली बनाते हुए अंतिम साँस ली। विरोचन का बेटा बली बहुत बड़ा योद्धा निकला। उसने सबसे पहले अपने ही पड़ोस में रहने वाले छोटे-बड़े क्षेत्रपतियों को धृष्ट-दंगाखोरों की ज्यादतियों से मुक्त किया और उन पर अपना अधिकार कायम किया। बाद में उसने अपने राज्य को बढ़ाने की दिनों-दिन कोशिश की। उस समय विप्रो का मुखिया (बटू) वामन था। उसको यह सब बर्दाश्त नहीं हो रहा था। इसलिए, उसने बली का राज्य लड़-झगड़ कर लेने के उद्देश्य से ही गुप्त रूप से बड़ी फौज तैयार की और अचानक बली के राज्य की सीमा पर आ पहुँचा। वामन बहुत ही लोभी, साहसी और अड़ियल दिमागवाला था।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें