Wednesday, April 17, 2024
होमसंस्कृतिसाहित्यउपेक्षित लोगों को सशक्त बनाने के लिए गाँवों में शिक्षा पर अधिकाधिक...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

उपेक्षित लोगों को सशक्त बनाने के लिए गाँवों में शिक्षा पर अधिकाधिक निवेश करें

आज हमारे सामने एक और सबसे बड़ी चुनौती यह है कि हर कोई कहता है कि वह अम्बेडकर का अनुयायी है। हमें उसकी हरकतों से सावधान रहने की जरूरत है। डॉ. अम्बेडकर धर्मनिरपेक्षता के पक्षधर थे और यह उनके संविधान में परिलक्षित होता है। वह हमेशा अल्पसंख्यकों और उनके सशक्तिकरण के लिए खड़े रहे। आज […]

आज हमारे सामने एक और सबसे बड़ी चुनौती यह है कि हर कोई कहता है कि वह अम्बेडकर का अनुयायी है। हमें उसकी हरकतों से सावधान रहने की जरूरत है। डॉ. अम्बेडकर धर्मनिरपेक्षता के पक्षधर थे और यह उनके संविधान में परिलक्षित होता है। वह हमेशा अल्पसंख्यकों और उनके सशक्तिकरण के लिए खड़े रहे। आज डॉ अम्बेडकर के तथाकथित अनुयायी उन ताकतों में शामिल हो रहे हैं और उनका समर्थन कर रहे हैं जो हमारे संविधान में निहित धर्मनिरपेक्षता के मूल सिद्धांतों के खिलाफ हैं।

तीसरा और अंतिम भाग-

आपको क्या लगता है कि अम्बेडकरवादी के रूप में हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती क्या है? प्रबुद्ध दुनिया के लिए डॉ. अम्बेडकर के मिशन को कैसे प्राप्त किया जा सकता है?

अम्बेडकरवादी चाहे भारत में हों या दुनिया में कहीं भी हों, दलित मुद्दों पर सबसे अधिक मुखर हैं। उन्हें रूढ़िवादिता और स्टेबलिशमेंट के लिए सबसे बड़ी चुनौती माना जाता है। हमने देखा है कि रोहित वेमुला के साथ क्या हुआ। ऐसा नहीं कि यह सिलसिला रुक गया बल्कि यह हमारे देश में कई वेमुलाओं के साथ हो रहा है। ऐसी स्थिति में, बाबासाहेब के अनुयायियों को अपने छोटे-मोटे मतभेदों को भूलकर एक साथ मिलकर समान मुद्दों के लिए लड़ना चाहिए। हमें अन्य संगठनों द्वारा किए गए कार्यों से सीखने और उनकी सराहना करने की आवश्यकता है। चाहे वे छोटे हों या बड़े। उनके साथ काम करने का प्रयास करें, न कि उनके खिलाफ। आज हमारे सामने एक और सबसे बड़ी चुनौती यह है कि हर कोई कहता है कि वह अम्बेडकर का अनुयायी है। हमें उसकी हरकतों से सावधान रहने की जरूरत है। डॉ अम्बेडकर धर्मनिरपेक्षता के पक्षधर थे और यह उनके संविधान में परिलक्षित होता है। वह हमेशा अल्पसंख्यकों और उनके सशक्तिकरण के लिए खड़े रहे। आज डॉ अम्बेडकर के तथाकथित अनुयायी उन ताकतों में शामिल हो रहे हैं और उनका समर्थन कर रहे हैं जो हमारे संविधान में निहित धर्मनिरपेक्षता के मूल सिद्धांतों के खिलाफ हैं।

[bs-quote quote=”1989 में, FABO, UK के निर्देशन में, अम्बेडकर शताब्दी समारोह समिति का गठन न केवल डॉ अम्बेडकर जयंती मनाने के लिए किया गया था, बल्कि उनकी प्रोफ़ाइल को बढ़ाने और भेदभाव को मिटाने के लिए काम करने हेतु भी किया गया था। चाहे वह भेदभाव नस्ल, रंग, धर्म, लिंग या जाति पर आधारित हो। लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स, ग्रेज़ इन, रॉयल कॉमनवेल्थ हॉल, इंडिया हाउस, ब्रिटिश संसद के दोनों सदनों और कई अन्य प्रमुख स्थानों पर समारोह आयोजित किए गए और मीडिया में व्यापक कवरेज हासिल किया गया। एक समारोह में बर्मा के लॉर्ड माउंटबेटन की बेटी ने भाग लिया।” style=”style-2″ align=”center” color=”” author_name=”” author_job=”” author_avatar=”” author_link=””][/bs-quote]

भारत में अल्पसंख्यक इसलिए पीड़ित हैं क्योंकि वे चुप्पी के शिकार हैं। डॉ अंबेडकर ने अन्याय के खिलाफ आवाज उठाना कभी बंद नहीं किया। अगर हम वास्तव में डॉ. अम्बेडकर का अनुसरण करते हैं, तो हमें हर समय बोलने की जरूरत है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हमारा मौलिक अधिकार है। अगर इसे दबाया जाता है तो हमें इस तरह के कृत्यों की निंदा करने के लिए एकता के साथ आगे आना चाहिए। उन मूल्यों की रक्षा करना अम्बेडकरवादियों की अधिक जिम्मेदारी है, जिनके लिए बाबासाहेब जीवन भर लड़े। 

जब मैं 70 के दशक में अम्बेडकर आंदोलन में शामिल हुआ, तो यह केवल भारतीय समुदाय तक ही सीमित था और बहुत से लोग डॉ अम्बेडकर के योगदान और उपलब्धि से परिचित नहीं थे। जब भी हम मीडिया से बात करते थे तो हमें डॉक्टर अंबेडकर के बारे में परिचय देना होता था। मानव अधिकार आंदोलन में डॉ अम्बेडकर के योगदान से पश्चिमी समाज को परिचित कराने के लिए डॉ. अंबेडकर की प्रोफाइल को ऊपर उठाना आवश्यक था। 1989 में, FABO, UK के निर्देशन में, अम्बेडकर शताब्दी समारोह समिति का गठन न केवल डॉ अम्बेडकर जयंती मनाने के लिए किया गया था, बल्कि उनकी प्रोफ़ाइल को बढ़ाने और भेदभाव को मिटाने के लिए काम करने हेतु भी किया गया था। चाहे वह भेदभाव नस्ल, रंग, धर्म, लिंग या जाति पर आधारित हो। लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स, ग्रेज़ इन, रॉयल कॉमनवेल्थ हॉल, इंडिया हाउस, ब्रिटिश संसद के दोनों सदनों और कई अन्य प्रमुख स्थानों पर समारोह आयोजित किए गए और मीडिया में व्यापक कवरेज हासिल किया गया। एक समारोह में बर्मा के लॉर्ड माउंटबेटन की बेटी ने भाग लिया।

[bs-quote quote=”डॉ. अम्बेडकर को विश्व मंच पर लाने में हमें लगभग पचास साल लगे। अब उन्हें किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है। यहां तक ​​कि उनका जन्मदिन भी संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में मनाया गया। उनके योगदान को दुनिया भर के बुद्धिजीवियों और मानवाधिकार आंदोलनों द्वारा मान्यता दी जा रही है।” style=”style-2″ align=”center” color=”” author_name=”” author_job=”” author_avatar=”” author_link=””][/bs-quote]

डॉ. अम्बेडकर के काम के विभिन्न पहलुओं को उजागर करने के लिए स्मृति चिन्ह के चार खंड तैयार किए गए थे। यूके में कई पुस्तकालयों में प्रदर्शनियों और वार्ताओं का आयोजन किया गया। भारत के पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय वीपी सिंह को भी आमंत्रित किया गया था। भविष्य के कार्यक्रमों के लिए मंच तैयार किया गया था। बाद में FABO,  UK ने डॉ अम्बेडकर से जुड़े स्थानों पर उनकी प्रतिमाओं को स्थापित करने का कार्य संभाला। परिणामस्वरूप उनकी प्रतिमाएं लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स, लंदन, कोलंबिया विश्वविद्यालय, यूएसए और इंडिया हाउस, भारतीय उच्चायोग में स्थापित की गईं। बाद में अंबेडकर मिशन सोसाइटी बेडफोर्ड ने साइमन फ्रेजर यूनिवर्सिटी, वैंकूवर, कनाडा को डॉ अंबेडकर की प्रतिमा दान कर दी। अब हमें खुशी है कि यॉर्क यूनिवर्सिटी, टोरंटो, कनाडा, हंगरी और जापान में भी मूर्तियाँ स्थापित हैं। लंदन में पढ़ाई के दौरान डॉक्टर अंबेडकर जिस घर में रुके थे, उसे भी खरीद कर संग्रहालय में तब्दील कर दिया गया है। यह प्रस्ताव हमारी अध्यक्ष सुश्री संतोष दास एमबीई द्वारा महाराष्ट्र सरकार को भेजा गया था। उस अवधि के दौरान कई ब्रिटिश लोगों ने डॉ अम्बेडकर में गहरी दिलचस्पी लेनी शुरू कर दी थी। उनमें से एक प्रमुख फिल्म अभिनेता, प्रस्तुतकर्ता और वृत्तचित्र निर्माता केनेथ ग्रिफिथ भी थे। अम्बेडकर अंतर्राष्ट्रीय संस्थान की स्थापना की गई थी, जिसके वे 2006 में अपनी मृत्यु तक अध्यक्ष बने रहे। उन्होंने डॉ अम्बेडकर के जीवन पर बीबीसी के लिए एक वृत्तचित्र  अछूत बनाया।

यह भी पढ़ें…

विनिवेश में प्राथमिकता मिले गैर-हिंदू उद्यमियों को  

डॉ. अम्बेडकर को विश्व मंच पर लाने में हमें लगभग पचास साल लगे। अब उन्हें किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है। यहां तक ​​कि उनका जन्मदिन भी संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में मनाया गया। उनके योगदान को दुनिया भर के बुद्धिजीवियों और मानवाधिकार आंदोलनों द्वारा मान्यता दी जा रही है। अपने मिशन को पूरा करने के लिए हमारा कारवां अजेय है और आगे बढ़ रहा है। हमें सावधान रहने की जरूरत है कि उनकी विचारधारा को विनियोजित और कमजोर न किया जाए।

बेडफोर्ड में, आपके पास महान अम्बेडकरवाद की महान विरासत और काम करने के मौके थे। हमने सुना है कि आपने एडवोकेट भगवान दास जी का बहुत समर्थन किया था जब वे यूके आए थे। वहां कई महीनों तक रहे और जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के लिए अपनी शानदार प्रस्तुति तैयार की। क्या आपके पास अभी भी उसके बारे में बहुत सारे दस्तावेज़ और यादें हैं?

 हां, बेडफोर्ड ने अम्बेडकर आंदोलन में अपनी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। कई दिग्गज अम्बेडकरवादी और राजनेता जैसे एलआर बाली, सोहन लाल शास्त्री, यशवंत राव अंबेडकर, प्रकाश अम्बेडकर, आरआर बोले, एडवोकेट भगवान दास, नानक चंद रत्तू, वीपी सिंह, रामविलास पासवान और कई अन्य ने बेडफोर्ड का दौरा किया। ब्रिटेन में, विशेष रूप से बेडफोर्ड में अम्बेडकरवादी भगवान दासजी के लिए बहुत सम्मान  है। उन्होंने कई बार बेडफोर्ड का दौरा किया। भगवान दास उन कुछ अंबेडकरवादी विद्वानों में से एक थे जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दलितों की दुर्दशा को उजागर किया। वह धर्म और शांति पर विश्व सम्मेलन (WCRP) के संस्थापक सदस्यों में से एक थे। उन्होंने केन्या, जापान, मलेशिया, अमेरिका और कई अन्य देशों में आयोजित (डब्ल्यूसीआरपी) के कई सत्रों में भाग लिया। अम्बेडकर मिशन सोसाइटी, बेडफोर्ड और भारत तथा विदेशों के कई अन्य संगठनों की ओर से अगस्त 1983 में जिनेवा में आयोजित अल्पसंख्यकों के भेदभाव की रोकथाम पर संयुक्त राष्ट्र आयोग के 36 वें सत्र में उन्होंने गवाही दी। जिनेवा जाने से पहले, वह कुछ हफ़्ते हमारे साथ रहे। अपनी गवाही तैयार करते समय मि. दास ने सुझाव दिया कि यह अच्छा होगा यदि प्रतिनिधियों को वितरण के लिए उनकी गवाही की कुछ प्रतियां बनाई जाएं। यह लंबे समय रहने वाला प्रभाव छोड़ेगा। उस समय आधुनिक कंप्यूटर और फोटोकॉपी की कोई सुविधा नहीं थी। हमने एक पुराने प्रकार का साइक्लोस्टाइल कॉपियर खरीदा। श्री दास ने अपना भाषण स्टेंसिल पर टाइप किया और हमने उसकी कॉपी बना ली। हम सबने यह काम सुबह करीब 2 बजे खत्म किया। सौ से अधिक प्रतियां तैयार की गईं, जिन्हें वह अपने साथ जिनेवा ले गए।

यह भी पढ़ें…

बिहार से एक नयी कहानी : डायरी (6 फरवरी, 2022)

इस गवाही के बाद, भारतीय मुस्लिम, सिख और हिंदू प्रतिनिधि उनके खिलाफ हो गए और केन्या के नैरोबी में होने वाले डब्ल्यूसीआरपी के अगले सत्र से उनका नाम हटाने की साजिश रची। श्री दास ने हमें डब्ल्यूसीआरपी के महासचिव को लिखने के लिए कहा और स्थिति के बारे में बताया। महासचिव डाॅ. होमर ए. जैक ने उन्हें प्रतिनिधिमंडल में शामिल करने के अनुरोध के साथ ही उन्हें आमंत्रित किया क्योंकि वे भारत में बेजुबान लोगों की एकमात्र आवाज थे। डॉ जैक एक सच्चे इंसान थे। उन्होंने अंबेडकर मिशन सोसाइटी, बेडफोर्ड को साजिश के बारे में बताने के लिए धन्यवाद दिया और हमें आश्वासन दिया कि मि. दास भविष्य के सम्मेलनों में भाग लेंगे। दास साहब को ‘एशियाई मामलों के विशेषज्ञ’ के रूप में आमंत्रित किया गया था। सभी भारतीय प्रतिनिधियों ने उनसे दूरी बनाए रखी। नैरोबी में भारतीय उच्चायुक्त ने सभी भारतीय प्रतिनिधियों को रात के खाने के लिए आमंत्रित किया, लेकिन श्री दास का बहिष्कार किया। भगवान दास जी ने मुझे बाद में बताया कि बहिष्कार की घटना उनके पक्ष में चली गई क्योंकि इससे अन्य देशों के प्रतिनिधियों को सच्चाई का पता चला। और इस प्रकार मि. दास भविष्य के सम्मेलनों के लिए नियमित रूप से आमंत्रित सदस्य बने। तब से हम लगातार एक दूसरे के संपर्क में थे।

अगोरा प्रकाशन की किताबें अब किन्डल पर भी…

1988 में, अम्बेडकरवादी और बौद्ध संगठनों के संघ ने ब्रिटेन में अम्बेडकर जन्म शताब्दी मनाने के लिए एक प्रारंभिक बैठक की थी। बैठक भगवान दासजी की अध्यक्षता में हुई। उनकी पहल पर ब्रिटेन के प्रमुख संस्थानों में अम्बेडकर के विचारों को शामिल करने और कुछ शोध कार्य करने के लिए एक संगठन इंटरनेशनल अम्बेडकर इंस्टीट्यूट, यूके की स्थापना की गई। प्रसिद्ध अभिनेता और फिल्म निर्माता स्वर्गीय केनेथ ग्रिफिथ को अध्यक्ष के रूप में चुना गया, जिन्होंने बाद में बाबा साहब अम्बेडकर पर एक वृत्तचित्र फिल्म बनाई। इस यात्रा के दौरान, दास साहब ने बेडफोर्ड का दौरा किया, जहां बीबीसी रेडियो, बेडफोर्डशायर और चिल्टर्न रेडियो द्वारा उनका साक्षात्कार लिया गया। मैंने बीबीसी के प्रस्तोता से उनके साक्षात्कार की एक प्रति के लिए अनुरोध किया। उन्होंने मुझे अपने साक्षात्कार की मूल रिकॉर्डिंग भेजने की व्यवस्था की जिसे मैं अभी भी संजोए हुये हूं।

[bs-quote quote=”बेडफोर्ड बरो काउंसिल ने इन कार्यक्रमों के लिए स्थान उपलब्ध कराया। बेडफोर्ड के मेयर ने प्रदर्शनी का उदघाटन किया और हमारे संसद सदस्य ने बड़ी गर्मजोशी से भाग लिया। समापन समारोह एक मेगा हॉल में हुआ जहां डॉ. अम्बेडकर के जीवन पर एक वृत्तचित्र फिल्म दिखाई गई। कई वक्ताओं के भाषण के अलावा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी हुआ। जनता की ओर से जबर्दस्त प्रतिक्रिया मिली। समारोह में स्थानीय चर्चों और स्कूली बच्चों ने भाग लिया।” style=”style-2″ align=”center” color=”” author_name=”” author_job=”” author_avatar=”” author_link=””][/bs-quote]

बेडफोर्ड के पास डॉ चानन चहल नामक एक और किंवदंती थी। उनका जाति विरोधी कार्य असाधारण था। क्या आप उनके और अन्य अम्बेडकरवादी मित्रों के बारे में अपने विचार साझा कर सकते हैं?

चानन चहल स्थानीय गुरु रविदास सभा, बेडफोर्ड और बाद में गुरु रविदास सभा, यूके, अंबेडकर मिशन सोसाइटी, बेडफोर्ड और फेडरेशन ऑफ अंबेडकराइट एंड बौद्ध ऑर्गेनाइजेशन के संस्थापक सदस्यों में से एक थे। वह साठ के दशक की शुरुआत में स्थापित ग्रेट ब्रिटेन के रिपब्लिकन ग्रुप के एक प्रमुख सदस्य भी थे। चानन अच्छी तरह से पढ़े-लिखे थे। अंग्रेजी और पंजाबी दोनों में एक सशक्त वक्ता थे। उन्होंने न केवल अम्बेडकरवादी बल्कि यूरोप में दलित आंदोलन को भी गति दी। उन्होंने बाबासाहेब का संदेश लेने के लिए अमेरिका, कनाडा, यूरोप और भारत की यात्रा की। जातिगत भेदभाव पर उनके लेख ब्रिटेन और भारत के कई अखबारों में छपे। उन्होंने भारत में दलितों पर अत्याचार के खिलाफ भारत सरकार और ब्रिटिश सरकार को कई प्रदर्शनों के आयोजन और ज्ञापन देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उन्होंने पंजाबी में मैं हिंदू क्यों नहीं (मैं हिंदू क्यों नहीं हूं) नामक एक पुस्तक लिखी जिसकी प्रस्तावना भगवान दासजी द्वारा लिखी गई थी। यह किताब पंजाबी हलकों में सबसे ज्यादा बिकने वाली किताबों में से एक बन गई। उन्होंने पंजाब में तीन साल के लिए कीर्ति नामक एक साप्ताहिक शुरू किया। अम्बेडकर जन्म शताब्दी के दौरान अध्यक्ष के रूप में,चानन ने भारतीय उच्चायोग, लंदन, एलएसई, कोलंबिया और वैंकूवर में डॉ अम्बेडकर पर कार्यक्रमों को आयोजित किया। चानन चहल की द एविल ऑफ कास्ट : द कास्ट सिस्टम एज द लार्जेस्ट सिस्टमिक वायलेशन ऑफ ह्यूमन राइट्स इन टुड नाम की दूसरी किताब प्रकाशित हुई। यह हिंदू धर्मग्रंथों की एक विस्तृत परीक्षा है और इस हिंदू तर्क को ध्वस्त करती है कि जाति को पश्चिमी लोगों द्वारा आयात किया गया था। 

इस साल बाबा साहेब अम्बेडकर की 125वीं जयंती पर आपने एक अद्भुत कार्यक्रम किया।  आपके पास डॉ नेल्सन मंडेला और मार्टिन लूथर किंग जैसी अन्य महान अंतरराष्ट्रीय हस्तियों के साथ बाबा साहेब अम्बेडकर का काम था। इसका विचार कैसे पैदा हुआ और उसकी प्रतिक्रिया कैसी थी?

बाबासाहेब अम्बेडकर की 125वीं जयंती पर एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटना थी। मैं अम्बेडकर शताब्दी समारोह का हिस्सा रहा था और 125वीं जयंती का हिस्सा बनने का अवसर पाने के लिए खुद को बहुत भाग्यशाली मानता हूं। जब हमने बाबासाहेब की सौवीं जयंती मनाई, तो हमें मीडिया, शिक्षाविदों और मानवाधिकार संगठनों को डॉ अंबेडकर का परिचय देना पड़ा। पिछले 25 वर्षों के दौरान, डॉ अम्बेडकर की लोकप्रियता और महत्व आसमान छू रहा है। अब तक बाबासाहेब को दलितों के नेता के रूप में जाना जाता था। वास्तव में वे एक मानवतावादी थे। उनका योगदान धर्म, जाति, नस्ल या लिंग के आधार पर किसी विशेष के लिए नहीं, बल्कि सभी के लिए था। वह सबसे महान मानवाधिकार रक्षकों में से एक थे। हम डॉ. अंबेडकर को डॉ. नेल्सन मंडेला के समान एक सार्वभौमिक नेता के रूप में चित्रित करना चाहते थे और डॉ. मार्टिन लूथर किंग भारतीय समाज के एक विशेष वर्ग के नेता भर नहीं थे। इसी को ध्यान में रखते हुए हमने कार्यक्रम आयोजित किए।

[bs-quote quote=”हमने पत्र लिखकर संयुक्त राष्ट्र को 14 अप्रैल, डॉक्टर अंबेडकर के जन्मदिन को समानता दिवस के रूप में घोषित करने की सिफारिश की है। भारत के कुछ अन्य संगठनों ने भी पीएम को पत्र लिखा है। इस उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए हमें भारत सरकार की पैरवी करने के लिए राजनीतिक और सामाजिक संगठनों से और अधिक प्रोत्साहन की आवश्यकता है।” style=”style-2″ align=”center” color=”” author_name=”” author_job=”” author_avatar=”” author_link=””][/bs-quote]

हमने अपने सांसद और बेडफोर्ड के मेयर से बात की। वे जन्म शताब्दी समारोह का हिस्सा बनने में काफी रुचि रखते थे। हमने डॉ. अम्बेडकर के जीवन और कार्यों, ब्रिटेन में जातिगत भेदभाव और भारत में दलितों के खिलाफ अत्याचार पर बेडफोर्ड सेंट्रल लाइब्रेरी और काउंसिल परिसर में एक प्रदर्शनी का आयोजन किया। बेडफोर्ड बरो काउंसिल ने इन कार्यक्रमों के लिए स्थान उपलब्ध कराया। बेडफोर्ड के मेयर ने प्रदर्शनी का उदघाटन किया और हमारे संसद सदस्य ने बड़ी गर्मजोशी से भाग लिया। समापन समारोह एक मेगा हॉल में हुआ जहां डॉ. अम्बेडकर के जीवन पर एक वृत्तचित्र फिल्म दिखाई गई। कई वक्ताओं के भाषण के अलावा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी हुआ। जनता की ओर से जबर्दस्त प्रतिक्रिया मिली। समारोह में स्थानीय चर्चों और स्कूली बच्चों ने भाग लिया। डॉ. अंबेडकर के योगदान को जानकर लोग हैरान रह गए। मैं गुरु रविदास और भगवान वाल्मीक के अनुयायियों की सकारात्मक प्रतिक्रिया से संतुष्ट हूं, जिन्होंने न केवल इन आयोजनों का समर्थन किया बल्कि भोजन और जलपान भी प्रदान किया। 

अगोरा प्रकाशन की किताबें अब किन्डल पर भी…

यह गर्व की बात है कि एफएबीओ यूके उस घर को सुरक्षित करने में सक्षम था जहां डॉ अम्बेडकर 1921-22 के दौरान लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में अपनी पढ़ाई के दौरान रहे थे। अम्बेडकर स्मारक को खरीदने और परिवर्द्धित करने का प्रस्ताव तैयार किया गया था और हमारी अध्यक्ष सुश्री संतोष दास एमबीई द्वारा जीओएम को भेजा गया था। एक साल की कड़ी मेहनत के बाद, जीओएम ने घर खरीदा और प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा उद्घाटन किया गया। यह स्मारक आगंतुकों के लिए एक पर्यटन स्थल होगा और मानव अधिकारों के मुद्दों में रुचि रखने वाले शिक्षाविदों और छात्रों को प्रेरणा देगा। यह ब्रिटेन में अम्बेडकरवादियों की सबसे बड़ी उपलब्धि है जिसे आने वाली पीढ़ियों द्वारा याद किया जाएगा। वर्ष 2016 डॉ. अम्बेडकर के ब्रिटेन में उच्च अध्ययन के लिए आने लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में शामिल होने का शताब्दी वर्ष भी है। उनके एलएसई में शामिल होने के 125वे  वर्ष की शताब्दी के उपलक्ष्य में, हमने एलएसई और ब्रिटिश संसद में संगोष्ठी करने का फैसला किया है। एलएसई नोबल पुरस्कार विजेता डॉ अमर्त्य सेन, जो डॉ अंबेडकर को अर्थशास्त्र में अपना गुरु मानते हैं, ने डॉ अंबेडकर और आधुनिक समय में उनकी प्रासंगिकता पर एक अद्भुत बात की। यूके के शीर्ष विश्वविद्यालयों के कई विद्वानों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने इसमें भाग लिया। हमारे लिए यह साल काफी व्यस्त रहा।

 आपकी भविष्य की क्या योजनाएं हैं?

जातिगत भेदभाव के खिलाफ कानून को संसद द्वारा अप्रैल 2013 में पहले ही सहमति दी जा चुकी है। ब्रिटिश सरकार संसद की इच्छा की खुलेआम अनदेखी कर रही है और इस कानून को एक या दूसरे बहाने से लागू करने से इनकार कर रही है। अब उन्होंने इस महत्वपूर्ण मामले पर एक सार्वजनिक परामर्श जारी करने का फैसला किया है। परामर्श इसकी प्रारंभ तिथि से 12 सप्ताह तक चलेगा। परामर्श का एक प्रमुख उद्देश्य अधिनियम में जाति के लिए किए जाने वाले उचित प्रावधान पर हितधारकों के विचार प्राप्त करना होगा। यह देरी करने की एक और युक्ति है।  इसका उद्देश्य कार्यान्वयन को पटरी से उतारना है। हमारी पहली प्राथमिकता अन्य संगठनों और व्यक्तियों के साथ जुड़ना और उन्हें इस सार्वजनिक परामर्श के लिए तैयार करना है। हमें परामर्श के दौरान जातिगत भेदभाव के और मामले पेश करने पड़ सकते हैं। 

अगोरा प्रकाशन की किताबें अब किन्डल पर भी…

हम पश्चिमी विश्वविद्यालयों में अध्ययन करने के इच्छुक दलित छात्रों के लिए अंबेडकर छात्रवृत्ति शुरू करने के लिए भारत में विभिन्न एजेंसियों को पहले ही लिख चुके हैं। यूके में एक प्रमुख संस्थान में एक अम्बेडकर पीठ स्थापित करना हमारा एक और उद्देश्य है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार अंबेडकर स्मारक बनाने के लिए बड़ी-बड़ी घोषणाएं कर रही है, लेकिन हम कुछ ऐसा चाहते हैं जिससे हमारी युवा पीढ़ी लाभान्वित हो। मुझे उम्मीद है कि भारत के अम्बेडकरवादी इस मुद्दे पर भी दबाव डालेंगे। हम सरकार से यह भी कह रहे हैं कि आवंटित धन को दलितों के कल्याण के लिए खर्च किया जाए। उसे अन्य परियोजनाओं पर न लगाया जाए। साथ ही भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा में अधिक से अधिक पैसा निवेश करें ताकि हमारे समाज के उपेक्षित लोगों को सशक्त बनाया जा सके।

हमने पत्र लिखकर संयुक्त राष्ट्र को 14 अप्रैल, डॉक्टर अंबेडकर के जन्मदिन को समानता दिवस के रूप में घोषित करने की सिफारिश की है। भारत के कुछ अन्य संगठनों ने भी पीएम को पत्र लिखा है। इस उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए हमें भारत सरकार की पैरवी करने के लिए राजनीतिक और सामाजिक संगठनों से और अधिक प्रोत्साहन की आवश्यकता है।

vidhya vhushan

विद्या भूषण जाने-मने लेखक और सामाजिक कार्यकर्ता हैं।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

4 COMMENTS

  1. Greetings, I think your website could possibly be having browser compatibility issues.

    Whenever I look at your web site in Safari, it looks fine however, if opening in IE,
    it has some overlapping issues. I simply wanted to give you a quick heads up!
    Other than that, fantastic site!

  2. Aw, this was an incredibly nice post. Finding the time and actual effort to produce a
    very good article… but what can I say… I hesitate a whole
    lot and never seem to get anything done.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें