लगता हैं काशीनाथ जी ठाकुर नहीं अहीर हैं तभी यादव जी से इतनी दोस्ती है!

गाँव के लोग

0 124

प्रोफेसर चौथीराम यादव जब अपने जीवन के किस्से सुनाते हैं तो सुनते हुये भले ही हंसी आ जाती हो लेकिन उनके पीछे जो सच छिपा होता है वह बहुत भयावह होता है। मसलन जाति को लेकर ही। बीएचयू में उनकी नियुक्ति का इतना विरोध हुआ कि सवर्णों ने तत्कालीन विभागाध्यक्ष विजयपाल सिंह की कार के शीशे तोड़ डाले। ऐसे अनेक प्रसंग हैं जो विश्वविद्यालय में जड़ जमाये जातिवाद का खुलासा करते हैं। देखिये उनसे बातचीत का यह दूसरा भाग।

SHOW LESS

Leave A Reply

Your email address will not be published.