Monday, June 24, 2024
होमवीडियोलगता हैं काशीनाथ जी ठाकुर नहीं अहीर हैं तभी यादव जी से...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

लगता हैं काशीनाथ जी ठाकुर नहीं अहीर हैं तभी यादव जी से इतनी दोस्ती है!

प्रोफेसर चौथीराम यादव जब अपने जीवन के किस्से सुनाते हैं तो सुनते हुये भले ही हंसी आ जाती हो लेकिन उनके पीछे जो सच छिपा होता है वह बहुत भयावह होता है। मसलन जाति को लेकर ही। बीएचयू में उनकी नियुक्ति का इतना विरोध हुआ कि सवर्णों ने तत्कालीन विभागाध्यक्ष विजयपाल सिंह की कार के […]

प्रोफेसर चौथीराम यादव जब अपने जीवन के किस्से सुनाते हैं तो सुनते हुये भले ही हंसी आ जाती हो लेकिन उनके पीछे जो सच छिपा होता है वह बहुत भयावह होता है। मसलन जाति को लेकर ही। बीएचयू में उनकी नियुक्ति का इतना विरोध हुआ कि सवर्णों ने तत्कालीन विभागाध्यक्ष विजयपाल सिंह की कार के शीशे तोड़ डाले। ऐसे अनेक प्रसंग हैं जो विश्वविद्यालय में जड़ जमाये जातिवाद का खुलासा करते हैं। देखिये उनसे बातचीत का यह दूसरा भाग।

SHOW LESS

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें