Friday, June 14, 2024
होमविचारसांप्रदायिक चुनौतियों के नए खतरे दिखा रही है मोहित यादव की आत्महत्या

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

सांप्रदायिक चुनौतियों के नए खतरे दिखा रही है मोहित यादव की आत्महत्या

उत्तर प्रदेश भारत का वह राज्य है जहां कांवरियों के लिए पूरा राज्य तंत्र हिंदू बन चुका है। पुलिस अधिकारियों द्वारा कर्तव्य में किसी भी तरह की लापरवाही से उन्हें अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ सकता है। महाराष्ट्र के पालघर के पास चलती ट्रेन में रेलवे पुलिस कांस्टेबल ने अपने वरिष्ठ अधिकारी सहित तीन […]

उत्तर प्रदेश भारत का वह राज्य है जहां कांवरियों के लिए पूरा राज्य तंत्र हिंदू बन चुका है। पुलिस अधिकारियों द्वारा कर्तव्य में किसी भी तरह की लापरवाही से उन्हें अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ सकता है। महाराष्ट्र के पालघर के पास चलती ट्रेन में रेलवे पुलिस कांस्टेबल ने अपने वरिष्ठ अधिकारी सहित तीन निर्दोष मुस्लिम यात्रियों को मार डाला। घृणा और नफरत के सरोकारों की वजह से की गई इस हत्या की फितरत किसी आतंकी घटना जैसी होने के बावजूद, शासन द्वारा कोई गंभीर कार्यवाही नहीं दिखी। लेकिन यही अपराध यदि किसी मुस्लिम या दलित-आदिवासी द्वारा किया जाता तो पुलिस बहुत सक्रिय चुकी होती। तीसरी घटना हाल ही में सहारनपुर से सामने आई है, जहां नेहा पब्लिक स्कूल की शिक्षिका तृप्ता त्यागी ने आठ साल के मुस्लिम छात्र को उसके ही सहपाठियों से सिर्फ इसलिए थप्पड़ लगवाये क्योंकि उसने होम वर्क पूरा नहीं किया था। उक्त शिक्षिका मजे से मीडिया को इंटरव्यू दे रही है और अपनी करतूत पर पर्दा दाल रही है, जबकि यूपी पुलिस ने तृप्ता त्यागी के आपराधिक कृत्य को उजागर करने वाले ऑल्ट न्यूज़ के पत्रकार मोहम्मद जुबैर के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

जम्मू-कश्मीर में इसी तरह के एक मामले में, एक स्कूल की कक्षा के ब्लैक बोर्ड पर जय श्री राम लिखने पर एक लड़के की पिटाई करने के आरोप में एक मुस्लिम शिक्षक को तुरंत गिरफ्तार कर लिया गया।

अब आइये उत्तर प्रदेश की एक घटना को देखते हैं। कहानी वाकई दर्दनाक है और हमें सोचने पर मजबूर कर देगी कि हम कहाँ जा रहे हैं? क्या हो गया है इस देश और समाज को? क्या हम मुसलमानों के खिलाफ़ नफरत में परपीड़क हो रहे हैं? मोहित यादव, एक 32 वर्षीय व्यक्ति, एक बच्चे का पिता, उत्तर प्रदेश राज्य परिवहन निगम बस में कंडक्टर के तौर पर कार्यरत था। उसे एक संवेदनशील व्यक्ति होने और अपने साथी देशवासियों की धार्मिक भावनाओं का सम्मान करने की कीमत चुकानी पड़ी। मोहित यादव का कसूर यह था कि उसने दो मुस्लिम यात्रियों के लिए बस रोकी थी, जो चाहते थे कि बस को कहीं रोका जाए ताकि वे दो मिनट के लिए नमाज पढ़ सकें। मोहित ने बताया कि शुरुआत में बस खाली थी और जब दोनों यात्री चढ़े तभी उन्होंने अनुरोध किया था। मोहित ने बताया कि करीब एक घंटे तक बस चलने के बाद कुछ लोगों ने  पेशाब करने के लिए बस रुकवाने को कहा। मोहित ने सोचा कि यहीं पर लोग पेशाब करने जा सकते हैं और उसी समय ये दोनों मुस्लिम यात्री पास में ही नमाज भी पढ़ सकते हैं। उसने ड्राइवर से बस रोकने के लिए कहा और यात्रियों से पूछा कि अगर वे पेशाब करने जाना चाहते हैं तो वे अगले दो या तीन मिनट के लिए ऐसा कर सकते हैं। उसने मुस्लिम यात्रियों से कहा कि वे इस दौरान नमाज पढ़ सकते हैं। अचानक अन्य यात्री नमाज के लिए बस रोकने के मकसद पर सवाल उठाने लगे। मोहित जवाब दे रहा था कि उसने पेशाब करने के लिए बस रोकी और तभी उसने मुस्लिम यात्रियों से नमाज पढ़ने के लिए कहा।

मुझे लगता है कि लोगों को यह सोचना ज़रूरी है कि इन चीज़ों के लिए ड्राइवर या कंडक्टर पर दबाव न डालें, लेकिन मोहित इन लोगों की भावनाओं के प्रति संवेदनशील था और उसने बस रोक दी। एक यात्री ने मोहित के व्यवहार और बीच रास्ते में बस रोकने की शिकायत की तो यूपी रोडवेज ने बिना मौका दिए या कारण बताओ नोटिस दिए उसे निलंबित कर दिया। मोहित की नियुक्ति अनुबंध के आधार पर की गई थी इसलिए उसे ‘स्वाभाविक रूप से’ चुनौती देने का कोई अधिकार नहीं था। उसे प्रति माह लगभग 17000 रुपये मिलते थे और वह अपने परिवार में अकेले कमाने वाला था। अप्रत्याशित रूप से नौकरी छिन जाने की वजह से मोहित स्वाभाविक रूप से परेशान हो गए और दूसरी नौकरी की संभावना न देखकर आत्महत्या कर ली। सच कहें तो यह आत्महत्या नहीं बल्कि राज्य की उपेक्षा, उदासीनता और उपयुक्तता के अनुरूप कानून के आपराधिक प्रयोग द्वारा की गई शुद्ध हत्या है। जो राज्य अपराधी तृप्ता त्यागी के खिलाफ कार्रवाई करने में विफल रहा, उसी राज्य ने मोहित यादव के खिलाफ इतनी तेजी से कार्रवाई की कि उन्हें आत्महत्या करने जैसे अवसाद की हालत में पहुंचा दिया।

लोग मोहित के लिए आंसू क्यों नहीं बहा रहे? क्या वह निष्पक्ष सुनवाई का हकदार नहीं था? क्या हमने नहीं देखा कि कैसे लोग फ्लाइट और ट्रेन में नारे लगाते हैं, बसें रोकते हैं, जय श्री राम के नारे लगाते हैं? मोहित को दो मुस्लिम यात्रियों की धार्मिक भावना का सम्मान करने की कीमत चुकानी पड़ी। क्या ऐसा करना अपराध था? मैंने उसके साक्षात्कार के कई वीडियो देखे और जिस तरह से स्थानीय ‘मीडिया’ उनसे मुसलमानों के बारे में सवाल पूछ रहा था कि वे नमाज क्यों पढ़ रहे थे जैसे कि ऐसा करना कोई अपराध है, वह बेहद परेशान करने वाला और चौंकाने वाला है। टाइम्स ऑफ इंडिया वेब पर मोहित की आत्महत्या पर प्रतिक्रियाओं पर एक नजर डालने से पता चलेगा कि हम कितने बेशर्म और असंवेदनशील हो गए हैं और धार्मिक ध्रुवीकरण ने हमें नफरत फैलाने वाले रोबोट में तब्दील कर दिया है, जिनमें कोई मानवता नहीं बची है। कुल मिलाकर, हमें तथ्यों को अपनी सुविधा के अनुसार तोड़-मरोड़कर पेश करना सिखाया जाता है। उन्हीं यात्रियों ने ड्राइवर से लोगों की भावनाओं का ‘सम्मान’ करने को कहा होगा। अब बस को दो मिनट के लिए रोकना, ताकि कुछ लोग प्रार्थना कर सकें, यह ‘अपराध’ और ‘तुष्टीकरण’ हो गया है। यह सब तब होता है, जब हम अभी भी देखते हैं कि कांवरिए स्वतंत्रता सेनानी बन गए हैं और हमारी सीमाओं पर लड़ने वाले सैनिकों की तुलना में उन्हें राज्य से कहीं अधिक ध्यान मिलता है।

मोहित यादव के साथ घटी यह घटना 3 जून की है। बस बरेली से दिल्ली के पास कौशांबी जा रही थी। यूपीएसआरटीसी ने यात्री की शिकायत पर तुरंत कार्रवाई की और मोहित यादव को सेवाओं से निलंबित कर दिया। वह बेरोजगार हो गया।  उसने सोचा कि विभाग उसे नौकरी पर रखेगा लेकिन पूरी तरह से सांप्रदायिक हो चुके विभाग ने उसे दोबारा नौकरी पर रखने के बारे में कभी नहीं सोचा। हम यूपी रोडवेज की बसों को जानते हैं और वे कैसे काम करती हैं। कैसे ड्राइवर और कंडक्टर बसों को किसी भी समय कहीं भी रोक सकते हैं। जो लोग इन बसों से यात्रा करते हैं, वे इनकी हालत और इनमें मौजूद तथाकथित अनुशासन को जानते हैं। आप उन पर भरोसा भी नहीं कर सकते कि वो आपको समय पर किसी जगह पहुंचा देंगे। बसों की हालत तो सभी जानते हैं, फिर भी दो मुस्लिम यात्रियों की आस्था का सम्मान करते हुए कंडक्टर और ड्राइवर का नेकनीयती से लिया गया फैसला इतना बुरा माना गया कि उसे नौकरी से हटा दिया गया। 26 अगस्त को मोहित ने ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या कर ली और उसका क्षत-विक्षत शव बरामद हुआ।

इसे भी पढें .. 

ऊ कलाकारी करके का करें, जिसके सहारे परिवार का पेट ही ना पले

सरकार के मुखिया या किसी भी मंत्री, अधिकारी से किसी प्रतिक्रिया की उम्मीद नहीं है क्योंकि मोदी के सत्ता संभालने के बाद मंत्री और नेता केवल ‘सफलता’ या ‘सकारात्मक’ कहानियों के बारे में बात करते हैं। वे कभी भी किसी व्यक्ति से तब बात नहीं करते जब उन्हें जरूरत होती है।  वहाँ वे कोई प्रतिक्रिया नहीं देते जहां उनकी सरकार या विभाग को असंवेदनशील माना जाता है। वे दिन गए जब लोग सरकार की गलतियों पर सवाल उठाते थे और सहानुभूति जताते थे। आज ऐसा नहीं है। मौत के बाद भी झूठे लोग ‘सच’ बोल रहे हैं और वस्तुतः मोहित को ही दोषी ठहरा रहे हैं।

यहां एक और स्याह हकीकत है, जिसे समझना होगा। मोहित अनुबंध के आधार पर था इसलिए उसे बर्खास्त करना या निलंबित करना आसान था क्योंकि राज्य की कोई ज़िम्मेदारी नहीं है और कोई ट्रेड यूनियन, कोई बहुजन, कोई राजनीतिक दल उसके लिए नहीं बोल रहा है। यदि वह यूपीएसआरटीसी का नियमित कर्मचारी होता, तो उसे बर्खास्त करना मुश्किल होता और अनुशासनात्मक प्रक्रिया में काफी समय लगना चाहिए था और कानून की उचित प्रक्रिया के माध्यम से जाना चाहिए था, लेकिन एक अनुबंधित या दैनिक वेतनभोगी कर्मचारी को ‘अफसरों’ की सनक और इच्छा पर किसी भी समय बर्खास्त किया या हटाया जा सकता है।

वैसे भी, प्रश्न सरल है? मोहित यादव की मौत का जिम्मेदार कौन है? क्या दो मिनट के लिए बस रोकना अपराध है? क्या ड्राइवर सड़कों पर बसें रोकते हैं या नहीं? इस बात से कोई इनकार नहीं कर रहा है कि इसके लिए सख्त कानून होना चाहिए कि लोग अपनी धार्मिक आस्थाएं अपनी निजी सीमा में लेकिन इस मामले में यह तथ्य साफ नजर आ रहा है कि जिन लोगों ने मोहित के खिलाफ शिकायत की और जिन्होंने कार्रवाई की वे गंदी सांप्रदायिक मानसिकता से पीड़ित थे। उम्मीद है कि यदि वे किसी देश या समाज में अल्पसंख्यक बनकर रह रहे हैं तो उनके बच्चों को कष्ट नहीं उठाना पड़ेगा?

हम एक गंभीर संकट में हैं और मोहित यादव के खिलाफ कार्रवाई केवल यह साबित करती है कि हमें चेतावनी दी गई है कि हम देश के मुस्लिम साथी नागरिकों के प्रति कोई भी सद्भावना की बात न करें। न सहानुभूति दिखाएं या ऐसा कोई कार्य न करें, क्योंकि यह हमारे शासक और उनकी अंधभक्त मंडली को अच्छा नहीं लगता। सावधान रहें, देश के साथी मुसलमानों के प्रति कोई भी सहानुभूति दिखाने को हिंदुओं की भावनाओं को ठेस पहुंचाना या मुसलमानों का ‘तुष्टीकरण’ कहा जा सकता है। क्या हमारी अदालतें ऐसे मुद्दों पर बोलेंगी?

 

 

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

3 COMMENTS

  1. I am now not certain wherе yοu are gettіng your infoгmation, Ƅut gooⅾ topic.
    I must spend ѕome tіme finding out more or understanding more.
    Tһank yⲟu for gгeat info I was in search of this info
    fߋr my mission.

    Feel free to visit my blog :: siamsbotopone

  2. I am just at all times hoping to stay up dated concerning
    the most recent professional medical info about gestation, as my task for life is
    just as a NJMassages.com therapist. When dealing with this unique
    group, I just find that you can find little that any specific pair of customers share beyond the proven fact
    that they will be expectant. However, NJMassages.com, prenatal yoga exercise, and additionally finding a birth and labor doula are typically steps that will be
    mostly generally relevant to get the best possible
    birth and labor moment.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें