Monday, May 27, 2024
होममेरा गाँवक्या कोई मेरे गाँव का नाम बता सकता है

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

क्या कोई मेरे गाँव का नाम बता सकता है

भाई संतोष कुमार भारत से यहाँ फरवरी में आये और मुझे मिले तो मुझे लगा जैसे भारत से मेरा कोई भाई आया है| हम एक ही भोजपुरी भाषा बोलते हैं जो की मेरे बचपन में यहाँ बोली जाती थी (आजकल लोग सिर्फ अंग्रेजी बिल्ट हैं जिसपर मुझे काफी दुःख होता है)| हमें अब अपनी पुरानी भाषा को वापस लाना है और अपने पुरानी संस्कृति को जिन्दा करना है|

गाँव के लोग के बहाने अपने गाँव की याद

मेरा नाम विरजानंद गरीब है और मैं दक्षिण अफ्रीका में रहता हूँ| मेरे पिता 1912 में भारत के गोंडा जिला, उत्तर प्रदेश से यहाँ आये थे इसलिए आप मुझे उत्तर प्रदेश से आया हुआ कह सकते हैं| मैं एक यादव हूँ, एक पक्का भारतीय हूँ और मेरे दिल में भारत ही बसता है| मेरी संस्कृति भारत की है और मेरी भाषा भी भारत की है, इसलिए मैं हर तरह से एक भारतीय हूँ| सिर्फ मेरी नागरिकता दक्षिण अफ्रीका की है लेकिन मैं अपने आप को भारत का ही समझता हूँ और मुझे इसपर गर्व है| और वह इसलिए हैं की मैं जो भी हूँ उसपर मुझे गर्व है| हमें बनाने वाले यह उम्मीद करते हैं की हम उस भूमिका को निभाएं जिसके लिए हमें बनाया गया है इसलिए मैं वही करने की कोशिश करता हूँ जो मैं हूँ|

मेरा बचपन दक्षिण अफ्रीका के एक गांव में बीता है| मेरे घर में सिर्फ दो कमरे थे जिसमें मेरे माता पिता और हम पांच बच्चे रहते थे| घर पर पानी की व्यवस्था नहीं थी, बिजली नहीं थी और एक लकड़ी का चूल्हा था| मेरा काम रोज लकड़ी काटना था और मैं घर के आस पास की जमीन खोद कर कुछ सब्जियां ऊगा लेता था जैसे मक्का, धनिया, लहसुन, टमाटर, प्याज आदि| पिताजी काम पर चले जाते थे और उनके पास इन कार्यों के लिए कोई वक़्त नहीं होता था इसलिए ये सब कार्य मुझे ही करना पड़ता था| मेरे पिता एक कट्टर आर्यसमाजी थे| हमारे गांव के बहुत से लड़के शाम को हमारे घर आरती में आते थे| मैं उनको आरती करवाता था और हम सब आर्य समाज की रीत के हिसाब से पूजा पाठ किया करते थे| कभी कभी हम लोग हवन भी करते थे| मैं अपने पिता के साथ कभी कभी रामायण भी पढ़ता था और मेरे पिता को इसपर बहुत गर्व होता था| हम सब समय निकाल कर खेलते भी थे और क्रिकेट मेरा पसंदीदा खेल था| बरसात के दिनों में हम सब टिप और रन भी खेलते थे|

जब भाई संतोष कुमार भारत से यहाँ फरवरी में आये और मुझे मिले तो मुझे लगा जैसे भारत से मेरा कोई भाई आया है| हम एक ही भोजपुरी भाषा बोलते हैं जो की मेरे बचपन में यहाँ बोली जाती थी (आजकल लोग सिर्फ अंग्रेजी बिल्ट हैं जिसपर मुझे काफी दुःख होता है)| हमें अब अपनी पुरानी भाषा को वापस लाना है और अपने पुरानी संस्कृति को जिन्दा करना है| आज की आधुनिक संस्कृति उनकी ही स्वादहीन है जितनी आज का पाश्चात्य भोजन| यह संस्कृति कुछ भी नहीं बताती है और इसने हमारी सभ्यता को पीछे की दिशा में मोड़ दिया है| हम लोग यहाँ के लोगों को मैकाले से प्रेरित इस सभ्यता से बचाने की कड़ी मेहनत कर रहे हैं|

मैं गांव के लोग के पहले दो संस्करण से बहुत प्रभावित हुआ हूँ| इसका नाम से ऐसा लगता है जैसे हमसे इसका कोई जुड़ाव हो| भारत के ग्रामीण लोग दरअसल भगवान के बनाये सच्चे लोग हैं| वह लोग प्रकृति के साथ रहते हैं और उसी में जीते हैं| उनको जिंदगी के मूलभूत चीजों के लिए संघर्ष करना पड़ता है और ऐसे लोगों में ही भगवान बसता है| ऐसे लोगों के बारे में बताने की जरुरत है और इन्हीं लोगों की कहानियां वास्तविक हैं| मुझे इसीलिए यह पत्रिका बेहद पसंद आयी क्योंकि यह भारत के ग्रामीण लोगों की कहानियां है| और यही सच्चा भारत आज भी हमारे दिलों में बसता है| इस पत्रिका के द्वारा भारत के ग्रामीण क्षेत्रो की असली तस्वीर सामने आएगी और उसकी संस्कृति का प्रसार होगा| और फिर यह पत्रिका साहित्य के क्षेत्र में अपना वास्तविक स्थान प्राप्त कर सकेगी|

मुझे पूरा भरोसा है की अपनी जिंदगी के समाप्ति के पहले मैं भारत में गोंडा के अपने गांव के लोगों से मिल सकूँगा| मुझे लगता है की इस पत्रिका को भारत के गांव के लोगों की जिंदगी के बारे में कुछ और लिखना चाहिए| मेरी तरफ से पत्रिका को हार्दिक शुभकामनायें और भारत के ग्रामीण लोगों को दिल से बधाई|

विरजानंद गरीब

7, हिल्लार्ड एवेन्यू

मोरेहिल, बेनोनी, दक्षिण अफ्रीका

0027844911039, 0027102350220

2 COMMENTS

  1. बेहतरीन बात, विरजानन्द जी को बधाई। —– ‘सौमित्र’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें