Thursday, July 25, 2024
होमTagsDr.ambedkar

TAG

dr.ambedkar

मेरे गाँव ने वतनदारी प्रथा को कब्र में गाड़कर बराबरी का जीवन अपनाया

आशालता कांबले सुप्रसिद्ध मराठी लेखिका, कवियत्री, कहानीकार और सामाजिक कार्यकर्ता हैं। महात्मा फुले और अंबेडकरवादी साहित्य सृजन में उनका महत्वपूर्ण योगदान है। वह एक कुशल वक्ता हैं जिन्होंने मराठी सामाजिक, सांस्कृतिक आंदोलनों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। आशालता की अनेक पुस्तकें छप चुकी हैं। बहिनाबाई चौधरी, सावित्रीबाई फुले, रमाबाई, अहिल्याबाई होल्कर और कवि कुसुमाग्रज पर उनकी उल्लेखनीय किताबें हैं। अपनी माँ के जीवन पर उनकी एक किताब ‘आमची आई’ बहुत प्रसिद्ध हुई थी। इनके अलावा जनजागृति के लिए आशालता जी ने एक दर्जन से अधिक पुस्तिकाएँ लिखी हैं। पेशे से वह अध्यापिका रही हैं। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर शुरू किए जा रहे कॉलम ‘मेरा गाँव’ में उन्होंने अपने गाँव कांदलगाँव के अनुभवों को प्रस्तुत किया है। इस आलेख में कोंकण इलाके में दलितों के जीवन और उस पर डॉ अंबेडकर के प्रभावों का बहुत सघन परिचय मिलता है।

मोदी सरकार की कारगुजारियों को देखकर कैसे उम्मीद हो कि भारत भेदभाव दूर करेगा

जिस देश में हजारों साल से जाति भेदभाव होता आ रहा है, जिसकी वजह से ही लोग आर्थिक विषमता झेल रहे हैं। ऐसे में...

कैसे पूरा हो फुले दम्पति का सपना!

आज देश की पहली महिला अध्यापिका व नारी मुक्ति आंदोलन की पहली महानायिका सावित्रीबाई फुले का जन्म दिन है।इसे लेकर विगत कई दिनों से...

 बाबा साहेब के मिशन को पूरा करने के लिए जरुरी है दलितों के नेतृत्व में एक नया स्वाधीनता संग्राम !

आज 6 दिसंबर है। 1956 में इसी दिन समय ठहर सा गया था, जब सदियों के दबे-कुचले अछूतों, सताए व दबाये गए लोगों तथा...

इतिहास लेखन के नजरिए से डॉ. आंबेडकर के महापरिनिर्वाण दिवस के मौके पर आरएसएस का बाबरी विध्वंस (डायरी 5 दिसंबर, 2021)  

इतिहास भी एक भौतिक वस्तु है। मैं तो यही मानता हूं। मतलब यह कि इतिहास का निर्माण खुद-ब-खुद नहीं होता। इतिहास बनाना पड़ता है।...

संविधान पर चल रहे विमर्श के निहितार्थ

संविधान दिवस पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों और संगोष्ठियों का एक उद्देश्य यह भी होता है कि संघ परिवार एवं उसके विचारकों की संविधान...

जाति तोड़ने के लिए जरूरी है सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक बराबरी (डायरी, 2 दिसंबर, 2021) 

विविधता और भेदभाव में एक बुनियादी फर्क है। जहां एक ओर विविधता का संबंध रहन-सहन, क्षेत्रीय परिस्थितियां एवं संस्कृति व परंपराओं से है, वहीं...

शिक्षा ही स्त्री मुक्ति का एकमात्र उपाय – सुगंधि फ्रांसिस (भाग -दो)

दूसरा हिस्सा   मेरा एक ही सपना था कि मेरे बच्चे मेरी तरह आधी अधूरी पढ़ाई न करे। मेरी बेटी पढ़ाई में तेज थी और उसने...

गांधी को खारिज किया जाना जरूरी है डायरी (2 अक्टूबर, 2021)  

मेरी बेटी अब बड़ी हो रही है। जैसे-जैसे वह बड़ी हो रही है, उसके सवाल भी बढ़ रहे हैं। आज ही उसने सुबह-सुबह फोन...

विज्ञापनों के बारे में कभी ऐसे भी सोचिए डायरी (29 सितंबर, 2021)

अखबारों का संबंध राजनीति से बहुत सीधा है। इसे स्थापित करने के लिए प्रमाणों की कोई कमी नहीं है। अखबारों में विज्ञापनों का प्रकाशन...

इलाहाबाद हाईकोर्ट के जज साहब, मेरी भैंसों ने आपका क्या बिगाड़ा है? डायरी (2 सितंबर, 2021)

आप इलाहाबाद हाईकोर्ट के सम्मानित जज हैं। आपका नाम शेखर कुमार यादव है। संयोग ही कहिए कि मेरी जाति भी वही है जो आपकी...

दुनिया में बेनजीर अफगानिस्तान की ये पांच-छह महिलाएं डायरी (18 अगस्त, 2021)

 मैं बेहद रोमांचित हूं और एक हद तक खुश भी। मुझे ये अहसास बहुत कम ही मिलते हैं। कई बार तो लंबे समय तक...

अपनी करनी से गांधी सिर्फ सवर्णों के राष्ट्रपिता हो सकते थे

दूसरा और अंतिम भाग तथाकथित मेरिटधारियों ने समाज में अपने झूठे वर्चस्व को बनाये रखने का उपक्रम आज से ही नहीं बल्कि प्राचीन समय से...

ताज़ा ख़बरें