Wednesday, May 22, 2024
होमराज्यसिलक्यारा सुरंग से बाहर आए श्रमिक ने कहा हमने कभी उम्मीद नहीं...

ताज़ा ख़बरें

संबंधित खबरें

सिलक्यारा सुरंग से बाहर आए श्रमिक ने कहा हमने कभी उम्मीद नहीं छोड़ी

उत्तरकाशी, (भाषा)। उत्तराखंड में निर्माणाधीन सुरंग में 16 दिन फंसे रहने के बाद बाहर निकले श्रमिक विशाल ने कहा कि उन्होंने कभी उम्मीद का दामन नहीं छोड़ा था। केंद्रीय और राज्य सरकार की विभिन्न एजेंसियों द्वारा लगातार युद्धस्तर पर चलाए गए बचाव अभियान के 17 वें दिन मंगलवार की शाम को सुरंग में फंसे सभी […]

उत्तरकाशी, (भाषा)। उत्तराखंड में निर्माणाधीन सुरंग में 16 दिन फंसे रहने के बाद बाहर निकले श्रमिक विशाल ने कहा कि उन्होंने कभी उम्मीद का दामन नहीं छोड़ा था। केंद्रीय और राज्य सरकार की विभिन्न एजेंसियों द्वारा लगातार युद्धस्तर पर चलाए गए बचाव अभियान के 17 वें दिन मंगलवार की शाम को सुरंग में फंसे सभी 41 श्रमिक सकुशल बाहर निकाल लिए गए ।

सिल्क्यारा सुरंग से सभी 41 श्रमिकों के सफल बचाव पर, अंतरराष्ट्रीय सुरंग विशेषज्ञ, अर्नोल्ड डिक्स ने कहा है कि स्पष्ट दिमाग और गर्म दिल के साथ, कुछ भी संभव है। असंभव संभव है, और यही हमने यहां किया है।’

बाहर आने के बाद हिमाचल प्रदेश के मंडी के रहने वाले श्रमिक विशाल ने सुरंग के बाहर बेसब्री से इंतजार कर रहे अपने परिवार के लोगों से बातचीत की जिसके बाद उन्हें एंबुलेंस के जरिए अस्पताल ले जाया गया। मलबे से बाहर निकाले जाने के बाद श्रमिकों की सुरंग में ही त्वरित चिकित्सकीय जांच की गई और उसके बाद उन्हें सिलक्यारा से 30 किलोमीटर दूर चिन्यालीसौड़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया जहां 41 बिस्तरों का एक विशेष वार्ड तैयार किया गया है ।

फोन पर ‘पीटीआई’ से बातचीत में विशाल ने कहा, ‘हमने कभी उम्मीद नहीं छोड़ी थी…. मैं बिल्कुल ठीक हूं । हम सभी ठीक हैं और मैं उन सभी को धन्यवाद करता हूं जिन्होंने हमें सुरक्षित बाहर निकाला ।’ यह पूछे जाने पर कि सुरंग में उन्होंने इस कठिन घड़ी का सामना कैसे किया, उन्होंने कहा, ‘शुरूआती कुछ घंटे मुश्किल थे क्योंकि हमें घुटन महसूस हो रही थी । लेकिन उसके बाद बाहर से लोगों के साथ संपर्क हुआ और फिर धीरे—धीरे सब सामान्य हो गया ।’ सुरंग से बाहर निकाले गए सभी 41 श्रमिकों को चिन्यालीसौड़ स्वास्थ्य केंद्र में चिकित्सकीय निगरानी में रखा गया है । श्रमिकों को उनके घर पहुंचाए जाने से पहले ऋषिकेश एम्स ले जाए जाने की संभावना है ।

गाँव के लोग
गाँव के लोग
पत्रकारिता में जनसरोकारों और सामाजिक न्याय के विज़न के साथ काम कर रही वेबसाइट। इसकी ग्राउंड रिपोर्टिंग और कहानियाँ देश की सच्ची तस्वीर दिखाती हैं। प्रतिदिन पढ़ें देश की हलचलों के बारे में । वेबसाइट की यथासंभव मदद करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय खबरें