आयुष्मान कैसे भव ?

डॉ. ओमशंकर

0 235

अमेरिका स्वास्थ पर एक साल में अपने लोगों पर 3 लाख 38 हज़ार करोड़ डॉलर=2करोड़ 44 लाख 19हज़ार करोड़ रुपये खर्च करता है और हम आयुष्मान भारत पर 5000 करोड़ रुपया 50 करोड़ लोगों पर खर्च कर दुनिया में सबसे ज्यादा स्वास्थ पर खर्च करनेवाले बन गए-गजब का जुमला!

भारत को आज कृषि बीमा जैसे भ्रष्टाचारी लूट वाली आयुष्मान भारत-स्वास्थ बीमा की नहीं, बल्कि उससे पहले उतने हीं रुपयों से इस देश के सभी सरकारी संस्थानों के हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को विश्वस्तरीय बनाने की जरूरत है!

वर्तमान सरकार देश की अर्थव्यवस्था को बर्बाद करने और चुनाव जीतने के अब तक सभी नुस्खे आजमा चुकी है, बस आखरी दांव बचा है देश के मासूम सिपाहियों की चिताओं पर, भारत-पाकिस्तान आंशिक युद्ध द्वारा राजनैतिक रोटियां सेंकना ।

 

देशभक्ति के पर्दे में

देशभकों की देशद्रोह के कारण, गुलामी की दहलीज पर खड़ा हमारा देश… देश बचाओ।

वर्तमान सरकार देश की अर्थव्यवस्था को बर्बाद करने और चुनाव जीतने के अब तक सभी नुस्खे आजमा चुकी है, बस आखरी दांव बचा है देश के मासूम सिपाहियों की चिताओं पर, भारत-पाकिस्तान आंशिक युद्ध द्वारा राजनैतिक रोटियां सेंकना ।

वर्तमान सरकार द्वारा कांग्रेस के गलत नीतियों को सीखकर बेईमानी से बनाई गयी सत्ता को बरकरार रखने के लिए उन्हीं बेईमान पूंजीपतियों के लूट को और ज्यादा धार देकर उसको आगे बढ़ा दिया। इसी के लिए नोटबन्दी, GST और इंसेक्यूर कर्ज की व्यवस्था कर आग में घी डालकर उसे लाखों कदम और आगे बढ़ाया। इस सबकी वजह से आई गंभीर आर्थिक मंदी के दुष्प्रभाव को तात्कालिक रूप से कम करने के लिए खरीद-बिक्री तथा तेल पर अतिरिक्त कर लगाने का खेल खेलकर, राजकोषीय घाटा को कम करने की कोशिश की जिसे अर्थशास्त्र की भाषा में विकास का झूठा बुलबुला असर कहते हैं। इसमें इनलोगों ने मीडिया को खरीद और डराकर भी अपनी नाकामी को छिपाने की भरपूर कोशिश की, जिसके गंभीर परिणाम आज दिखा रहा है और हमारा देश गुलामी के कगार पर आ खड़ा हुआ है!

डॉ. ओमशंकर सर सुन्दरलाल अस्पताल के मशहूर हृदय रोग विभाग के विभागध्यक्ष और सामाजिक कार्यकर्ता हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.