Browsing Tag

lalu prasad yadav

पिछड़े समाज के सम्मान और उत्थान के सूत्रधार के रूप में हमेशा याद किए जाएंगे शरद यादव

सामाजिक न्याय का परचम उठाकर, समानान्तर राजनीति की धुरी बने रहने वाले नेता शरद यादव नहीं रहे। शरद यादव प्रायोगिक राजनीति के पुरोधा थे और…
Read More...

जिन्होंने पिछड़ों के लिए कुर्सी गँवाई पिछड़े ही उन्हें कभी याद नहीं करते!

व्यक्तिगत तौर पर विश्वनाथ प्रताप सिंह बेहद निर्मल स्वभाव के थे और प्रधानमंत्री के रूप में उनकी छवि एक मजबूत और सामाजिक, राजनैतिक दूरदर्शी…
Read More...

इतिहास के आइने में सपा तथा नई सपा के युवा सारथी अखिलेश यादव की चुनावी रणनीतियां

समाजवादी पार्टी की प्रासंगिकता और लोकप्रियता अब भी बरकरार है, जिसे अखिलेश यादव की जनसभाओं में उमड़ती हुई भीड़, युवा वर्ग और कार्यकर्ताओं को…
Read More...

जीवन में ईमानदारी और सामाजिक न्याय की पहरेदारी के बेमिसाल नायक कर्पूरी ठाकुर

कर्पूरी ठाकुर भारतीय के एक बेमिसाल शख्सियत थे जिनकी राजनीति और सरोकार कभी मद्धिम नहीं पड़े बल्कि उनका महत्व लगातार बढ़ा है।…
Read More...

देश के लिए जरूरी हैं शरद यादव, लालू यादव और मुलायम सिंह यादव का पराक्रम(डायरी, 27 नवंबर 2021) 

संविधान दिवस का फेसबुकिया सेलिब्रेशन कल देर रात चलता रहा। कल ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी संविधान को लेकर अपना ज्ञान बांटा। सुप्रीम…
Read More...

पटना के एम्स में चाहिए इलाज तो देना होगा वीवीआईपी होने का प्रमाण (डायरी 3 नवंबर, 2021) 

यह एक मजदूर की दास्तान है और वह भी असंगठित क्षेत्र के मजदूर की जो रिश्ते में मेरा चचेरा भाई भी है। उम्र में मुझसे करीब 7-8 साल बड़ा। नाम है–…
Read More...

‘अंतरात्मा’ की आवाज़ डायरी (23 सितंबर 2021)

आज बात बिहार की। बीते कई दिनों से बिहार की याद भी बहुत आ रही है। इसकी वजह शायद यह कि दिल्ली से बिहार आने-जाने का मेरा अंतराल तीन महीने का…
Read More...

अपनी हिस्सेदारी का मतलब समझती हैं औरतें, उनका स्वागत किया जाना चाहिए डायरी (8 सितंबर, 2021)

वैसे तो यह कोई असामान्य बात नहीं है। घर का मुखिया जो भी काम करे, उसके परिजन उसी हिसाब से सोचते-विचारते हैं। घर का मुखिया यदि पायलट होगा तो…
Read More...

लालू यादव के घर में ‘रगड़ा’ डायरी (22 अगस्त, 2021)

पालिटिक्स के बारे में मेरा अपना एक फलसफा है। लेकिन इसे अभिव्यक्त करने के लिए आंचलिक शब्दों का उपयोग नहीं करूंगा। खड़ी हिंदी में…
Read More...

ओम बिरला, वेंकयानायडू और हरिवंश की रीढ़  डायरी (13 अगस्त, 2021)

भारत में लोकतंत्र बड़ी तेजी से पतन की ओर अग्रसर है। जिस तरह से भारत में सत्तासीन नरेंद्र मोदी सरकार लोकतांत्रिम परंपराओं का अवमूल्यन करती जा…
Read More...