Friday, June 21, 2024
होमTags#NarendraModi

TAG

#NarendraModi

2024 का लोकसभा चुनाव : संख्या के भंवर में बहुमत का खेल और भविष्य की राजनीति

भाजपा की राजनीति ने सिर्फ लोगों के अन्दर चिंगारियां भरने का काम किया है। इसलिए हमें ऐसी राजनीति से परहेज करना चाहिए और समता मूलक समाज की स्थापना में अपना योगदान देना चाहिए। गांधी की यात्राएं कांग्रेस को गांव-गांव तक पहुंचा देने और वहां संगठन खड़ा कर देने में बदल गईं। एक जनवादी आंदोनल के लिए इस तरह की यात्राएं बहुत ही जरूरी हैं। जब ऐसी यात्राएं बंद होती हैं तो जनसंगठन और पार्टियाँ लोगों को विनाश की ओर ले जाती हैं ।

कांग्रेस के घोषणापत्र पर सिर्फ आंबेडकरवाद की छाप है

कांग्रेस का घोषणा पत्र पूरी तरह से आंबेडकरवाद से प्रभावित है। इस घोषणा पत्र में दलित, आदिवासी,पिछड़ों के उत्थान के मार्ग को प्रशस्त करने का खाका खीचा गया है। इसी कड़ी में विविधता आयोग की स्थापना करने का वादा कर कांग्रेस ने आंबेडकरवाद को सम्मान देने का ऐतिहासिक कार्य भी किया है।

धन-दौलत के पुनर्वितरण की घोषणा और मोदी की तिलमिलाहट का राज

पहले चरण के चुनाव के बाद से बीजेपी को हार का डर सताने लगा है। इसीलिए देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी खुलकर हिन्दू -मुस्लिम की बातें कर रहे हैं। हद तो तब हो गयी जब राजस्थान के बांसवाड़ा के चुनावी सभा में प्रधानमंत्री ने कहा, ‘कांग्रेस का घोषणापत्र माओवादी सोच को धरती पर उतारने की है।

Lok sabha Election : राहुल गांधी की जनता से अपील, रेलवे को बचाना है तो मोदी सरकार को हटाइए

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जनता से अपील करते हुए कहा है कि भारतीय रेलवे को बचाना है तो सबसे पहले केन्द्र की मोदी सरकार को हटाइए। मोदी भारतीय रेलवे को निजी हाथों में सौंपना चाहते हैं।

लालू जी ने बिहार में सामाजिक न्याय को एक वास्तविकता बना दिया – तेजस्वी यादव

पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में आयोजित एक ‘विशाल’ रैली में कांग्रेस नेता राहुल गांधी, अखिल भारत कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के महासचिव सीताराम येचुरी जैसे प्रमुख विपक्षी नेता मौजूद थे। जहां से सभी ने विशाल जनसभा को संबोधित किया। 

मोदीराज में 81 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन निकलेगा सबसे बड़ा घोटाला

नीति आयोग की रिपोर्ट के बाद सवालों के घेरे में मोदी सरकार, सवाल है कि अगर देश में मात्र 7 करोड़ गरीब बचे हैं तो वह 81 करोड़ जनता कौन सी है जिन्हें मोदी बांट रहे हैं मुफ्त अनाज, राजनीतिक विश्लेषक महेंद्र पांडेय की वरिष्ठ पत्रकार अजय प्रकाश से बातचीत

सांप्रदायिकता, हिन्दुत्व और बीजेपी का चुनावी तरीका

आपने राम जन्मभूमि आंदोलन के समय और उसके बाद, उत्तर भारत में इस विषय पर अत्यंत विस्तृत अध्ययन किया है, विशेष रुप से दंगाग्रस्त स्थानों में।...

कर्नाटक चुनाव में फेल हुआ मोदी मैजिक, काँग्रेस ने भाजपा से छीना सत्ता का ताज

यह जीत राहुल के विजन ‘घृणा के खिलाफ प्यार’ के मिशन को आगे बढ़ा सकती है चुनावी सर्वेक्षण की उम्मीदें सच साबित हुई और...

कर्नाटक में मुस्लिम आरक्षण खत्म करने का भाजपा का नया खेल

इस समय पूरे देश की निगाहें कनार्टक विधानसभा चुनाव प्रचार पर लगी हैं, जहाँ 10  मई को 224 सीटों के लिए वोट पड़ने हैं।वोटों...

कांग्रेस के इतिहास में पहली बार सोशल जस्टिस का पिटारा                                      

तृणमूल 2024 का लोकसभा चुनाव अकेले लड़ेगी और उनकी पार्टी किसी भी गठबंधन का हिस्सा नहीं बनेगी। कहने  की जरूरत नहीं कि एक बच्चा भी बता देगा कि 2 मार्च को आये तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव परिणामों ने मोदी को इतना ताकतवर बना दिया है कि उनके खिलाफ लगातार ताल ठोकने वाली ममता सरेंडर की मुद्रा में आ गयी हैं और उनके रास्ते का अनुसरण अन्य कई आग मार्का विपक्षी नेता भी कर सकते हैं,यह सोचकर ही 2024 में मोदी-मुक्त भारत का सपना देखने वाले सदमे में आ गए हैं।

बंधुतत्व के ब्रांड एम्बेसडर के रूप में उभरे राहुल गांधी

दिल्ली की गद्दी पर जमने से पहले नरेंद्र मोदी राहुल गांधी को शहजादे का खिताब देते रहे हैं, अपने एक भाषण में जब राहुल...

रौद्र और कोमल की जुगलबंदी की जुगत के पीछे क्या है?

संगीत, भारतीय शास्त्रीय संगीत में स्वर और रागों का एक ख़ास विधान है। स्वर की नियमित आवाज को उसकी निर्धारित तीव्रता से नीचा उतारने...

कहाँ है ऐसा गाँव जहाँ न स्कूल है न पीने को पानी

अगर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मानें तो अगले हफ्ते आने वाले आज़ादी के अमृत महोत्सव तक भारत के हर आदमी को पक्का घर, घर...

मुद्रास्फीति की परिभाषा (डायरी, 3 अगस्त, 2022)

सवाल मुझे व्यक्तिगत तौर पर अच्छे लगते हैं। खासकर वे सवाल जो मुझसे मेरे बच्चे पूछते हैं। हालांकि उनके सभी सवालों का जवाब देना...

पिंजरेवाली मुनिया (डायरी 22 जुलाई, 2022) 

पिछले दो दिनों से क्रिस्टोफर कॉडवेल को पढ़ रहा हूं। संभवत: यह उनकी पहली किताब है। इसका नाम है– 'स्टडीज इन अ डाइंग कल्चर।'...

 मुंगेरी लाल कमीशन के हत्यारों को जानिए (डायरी 20 जुलाई, 2022) 

दुनिया में न कोई शब्द आसमानी है और ना ही कोई मुहावरा। सब मनुष्यों का ही किया धरा है। असल में यह बात मैं...

रेवड़ियों का मतलब मैं तो यही समझता हूं और आप? (डायरी, 17 जुलाई, 2022) 

कबीर को पढ़ना अच्छा लगता है। कई बार सोचा कि ऐसा क्या है कबीर के पदों में कि मैं हर बार उसमें डूबता चला...

गुजरात दंगे के मामले को अब इस दृष्टिकोण से भी देखें (डायरी, 14 जुलाई, 2022) 

पत्रकारिता और साहित्य दो अलग-अलग चीजें हैं। हालांकि दोनों में समानताएं भी हैं। कई बार पत्रकारिता और साहित्य दोनों एक साथ शामिल भी किये...

ऐतिहासिक अशोक स्तंभ को विद्रूपित करने के पीछे की मंशा (डायरी 13 जुलाई, 2022)

देश में अराजकता की स्थितियां उत्पन्न की जा रही हैं। दुखद यह है कि ऐसा स्वयं सरकार कर रही है और देश के अखबार...

संवैधानिक संस्थाओं की हत्या (डायरी,12 जुलाई, 2022) 

सियासत की कोई एक परिभाषा लगभग नामुमकिन है। अक्सर हमें यह लगता है कि सियासत का मतलब केवल और केवल राज करना होता है,...

ताज़ा ख़बरें