Browsing Tag

गाँव के लोग

प्यासा से राॅक स्टार तक स्वतंत्र लेखकों और कलाकारों का वजूद

लेखकों, कवियों, शायरों, संगीतकारों के जीवन संघर्ष को चित्रित करने वाली कुछ बेहतरीन फिल्में बाॅलीवुड और दुनिया भर के सिनेमा में समय-समय पर…
Read More...

बिहार से एक नयी कहानी : डायरी (6 फरवरी, 2022)

विहारों के प्रदेश को बिहार किसने कहा होगा? कल देर शाम से यही सोच रहा हूं। सोचने के पीछे कुछेक खबरें हैं जो कल मिलीं। पहले एक कहानी दर्ज कर…
Read More...

सामाजिक सामंतवाद और आर्थिक सामंतवाद के बीचोंबीच (डायरी 25 जनवरी, 2022) 

समाज को कैसा होना चाहिए? यह सवाल मेरी जेहन में हमेशा बना रहता है। बहुत कम ही ऐसा होता है कि मैं किसी एक नतीजे पर पहुंच पाता हूं। हालांकि एक…
Read More...

आदिवासी समाज में पुरुषवर्चस्व की शिनाख्त

आदिवासी समाजों की अपनी विशिष्टता और स्वायत्तता होती है लेकिन अब उस पर न केवल भूमंडलीकरण और बाज़ारवाद का असर बढ़ रहा है बल्कि संघ और दूसरे…
Read More...

ऐसा स्कूल जहाँ तीन पीढियां एक साथ पढ़ती, खेलती और रोज़गार के हुनर सीखती हैं .

https://www.youtube.com/watch?v=IfCUasrG8RY&t=29s एक ऐसी शख्सियत जिन्होंने एक छोटे से प्रयास से अपने आसपास के मलिन बस्ती के…
Read More...

मुल्कराज आनंद ने मुझसे पहला ही सवाल किया कि क्या तुम टॉयलेट साफ़ कर सकते हो?

भारत के जाने-माने सामाजिक कार्यकर्ता और चिन्तक-लेखक विद्या भूषण रावत सही अर्थों में एक जिंदादिल व्यक्ति हैं. अकेले बूते पर…
Read More...

एक दुर्लभ अभिनेता जिसने अभिनय को बेमिसाल ऊंचाई दी

पुण्यतिथि पर विशेष  आज संजीव कुमार की 37वीं पुण्यतिथि है लेकिन शायद ‘कलाप्रेमियों’ और ‘कलाकारों’ को छोड़ किसी को उनको याद करने की शायद ही…
Read More...

बदलते दौर में बेटियां और उनके सवाल ( डायरी 8 अक्टूबर, 2021) 

कोई नई बात नहीं है। ऐसा होता रहा है और मुझे लगता है कि असंख्य लोगों के सामने यह सवाल जरूर रहता होगा। खासकर वे जो पिता हैं और बेटियों के…
Read More...

जूते और किताबें

उसे बाजार से कुछ किताबें खरीदनी थी और अपने लिए जूते भी। वह कई दुकानों में गया। लेकिन उसे अपनी पसन्द के जूते नहीं मिले। उसनें सोचा बड़े शोरूम…
Read More...

सुप्रीम कोर्ट का प्रेशर कुकर बन जाना ( डायरी 7 अक्टूबर, 2021)

मुझे याद नहीं है कि प्रेशर कुकर मैंने पहली बार कब देखा। मेरे घर में कुकर जैसा कोई बर्तन नहीं था। मेरा गांव बिहार की राजधानी पटना के एकदम…
Read More...